नए लाइसेंसिंग नियमों पर गूगल-ट्विटर खामोश, समय सीमा खत्म होने पर भी नहीं कराया पंजीकरण

जकार्ता। इंडोनेशिया में नए लाइसेंसिंग नियमों के लिए गूगल, फेसबुक और ट्विटर ने अब तक देश के संचार व सूचना विज्ञान मंत्रालय में पंजीकरण नहीं कराया है। मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, इसकी समय सीमा भी खत्म हो चुकी है। ऐसे में उनकी सेवाएं देश में अस्थायी रूप से बाधित की जा सकती हैं।

2020 के अंत में जारी नियमों के तहत यह पंजीकरण जरूरी था जो अधिकारियों को कुछ यूजरों के डाटा का खुलासा करने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मों को मजबूर करने का व्यापक अधिकार देता है। इसके तहत गैर कानूनी समझी जाने वाली सामग्री को चार घंटे से 24 घंटे के बीच हटाया भी जा सकता है।

यह भी पढ़ें | अर्शदीप वनडे डेब्यू करने को तैयार, भारत पोर्ट ऑफ स्पेन में 11 साल से हारा नहीं
संचार मंत्रालय के मुताबिक, अगर कंपनियां बुधवार मध्यरात्रि तक पंजीकरण नहीं कराती हैं तो उन पर जुर्माना लगाया जाएगा अथवा उन्हें ब्लॉक कर दिया जाएगा। लेकिन पंजीकरण करा लेने की स्थिति में ऐसा नहीं होगा। हालांकि मंत्रालय ने यह नहीं बताया कि ब्लॉक वास्तव में कब प्रभावी होगा, इसके तत्काल होने की संभावना नहीं है।

ट्विटर ने कहा, उचित कदम उठाए
गूगल से जब इस बारे में टिप्पणी मांगी गई तो उसने इस बाबत तुरंत जवाब नहीं दिया। हालांकि ट्विटर ने बुधवार को एक बयान में कहा कि उसने नियमों का पालन करने के लिए उचित कदम उठाए हैं। उधर, मंत्रालय ने कहा कि इस बारे में कंपनियों को छह माह पूर्व ही बता दिया गया था, लेकिन अब तक कई बड़ी कंपनियों ने पंजीकरण नहीं कराया है, इसलिए जरूरी कदम उठाए जाएंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper