नए साल पर रूस ने मार गिराए 600 सैनिक! यूक्रेन ने उठा दिए दावे पर सवाल; क्या है मामला

 


नई दिल्ली. रूस ने दावा किया है कि जवाबी कार्रवाई में यूक्रेन के सैकड़ों सैनिकों को मिसाइल स्ट्राइक में ढेर कर दिया है। अब यूक्रेन ने इसे रूस का प्रोपेगैंडा बताया है। हालांकि, रूस की तरफ से भी अपने दावे को लेकर कोई सबूत पेश नहीं किया गया है। रूस और यूक्रेन के बीच जंग को करीब एक साल का समय पूरा होने आया है। रूस ने बीते साल 25 फरवरी को यूक्रेन के खिलाफ सैन्य कार्रवाई शुरू की थी।

मॉस्को का दावा है कि मिसाइल हमले में क्रेमाटोस्क में यूक्रेन के बलों के 600 से ज्यादा जवानों को मार गिराया है। रूस का कहना है कि न्यू ईयर के मौके पर यूक्रेन की तरफ से किए गए हमले का जवाब है। रूस के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि भवनों पर किए गए हमलों में 600 से ज्यादा सैनिक मारे गए हैं। आगे जानकारी दी है कि दो भवनों में 1300 से ज्यादा यूक्रेनी बल मौजूद थे।

इधर, बीबीसी से बातचीत में यूक्रेन ने रूस के इस दावे को झूठा बताया है। यूक्रेन की सेना के प्रवक्ता ने कहा, ‘यह रूसी प्रोपेगैंडा का एक और हिस्सा है।’ रूस का कहना है कि उसने माकीवका में 89 सैनिकों की हत्या का बदला लिया है। जबकि, यूक्रेन का कहना है कि उस हमले में 400 लोग मारे या घायल हुए थे।

समाचार एजेंसी के अनुसार, यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने सैन्य सहायता पैकेज में टैंक ध्वस्त करने वाले बख्तरबंद वाहनों को शामिल करने के लिए अमेरिका की तारीफ करते हुए कहा कि रूसी सेना के खिलाफ लड़ाई में यूक्रेन के सैनिकों को ‘बिल्कुल इसी की जरूरत है।’ इस बीच, अधिकारियों ने कहा कि यह स्पष्ट नहीं है कि रूस ऑर्थोडॉक्स ईसाईयों द्वारा सात जनवरी को मनाए जाने वाले क्रिसमस के लिए 36 घंटे के एकतरफा संघर्ष विराम का पालन कर रहा है या नहीं। यूक्रेन ने युद्ध विराम को रूस की चाल बताते हुए निंदा की थी।

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper