पहले पति फिर बेटे ने छोड़ी दुनिया, कुछ ऐसे ही दुःखों से भरी हैं सिंगर अनुराधा पौडवाल की ज़िंदगी…

फिल्मी दुनिया मे अपने सुरों के जादू चलाने वाली अनुराधा पौडवाल का जन्म 23 अक्टूबर 1954 को हुआ है। अपनी सुरीली आवाज का जादू फिल्मी दुनिया मे चलता रहा है, इन्होंने अपनी सुरीली आवाज से न सिर्फ फिल्मी दुनिया बल्कि लोगों को दिलों पर भी राज किया है। लोग अनुराधा की आवाज़ के दीवाने रहे हैं एक दौर था जब अनुराधा का दौर चलता था।

हालांकि अनुराधा पौडवाल की पहचान भक्ति गानों के साथ हुई थी उन्होंने अपने करियर का पहला गीत ही भक्ति गीत गाया था। बताते दें कि अनुराधा ने अपने जीवन का पहला काम 1973 उस ज़माने की मशहूर अभिनेत्री जया बहादुरी की फ़िल्म ‘अभिमान’ में श्लोक गाया था उनके करियर की शुरुआत ही इसी श्लोक से हुई थी।

शुरआत के बाद से अनुराधा बॉलीवुड इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनानी शुरू कर दी थी जिसके बाद फेमस प्लेबैक सिंगर की लिस्ट में जगह बनाई और सफलता की सीढ़ियां चढ़ती गयीं, अपने सुरों का जादू लोगों पर बिखेरते गयी लोगों को अपनी आवाज़ का दीवाना बनाते गयीं अब उनकी पहचान मशहूर सिंगर में आ चुका था लोग अनुराधा को जान चुके थे उनकी आवाज़ के दीवाने हो चुके थे।

हालांकि कुछ किस्से कहानी उनके जीवन के भी हैं जो उन दिनों बॉलीवुड गलियारे में घूम रहे थे। बात करें अनुराधा पौडवाल के पर्सनल लाइफ की तो अनुराधा ने साल 1969 में अरुण पौडवाल के साथ शादी रचाई थी वहीं अनुराधा के पति अरुण एस डी बर्मन के असिस्टेंट साथ ही मशहूर गायक थे। हालांकि अरुण से शादी के बाद अनुराधा पौडवाल के 2 बच्चे हुए जिसमें एक बेटा आदित्य और एक बेटी कविता है। साल 1991 में अनुराधा पौडवाल के पति अरुण पौडवाल एक हादसे की वजह से अपनी जान गवा बैठे और वह इस दुनिया को हमेशा के लिए अलविदा कह गए।

वहीं पति के देहांत के बाद अनुराधा के कंधों पर दोनो बच्चों की जिम्मेदारियां आ गयी अनुराधा अब सिंगल मदर बनके अपने दोनो बच्चों की परवरिश अकेले की, अकेले ही सारी जिम्मेदारियां निभाई।

पति के मरने के बाद अनुराधा का नाम टी-सीरीज के मालिक स्वर्गीय गुलशन कुमार के साथ भी जोड़ा गया हालांकि उस ज़माने में गुलशन कुमार उन्हें दूसरी लता मंगेशकर देखना चाहते थे जिसके चलते गुलशन कुमार उन्हें कई गाने दिए हालांकि अनुराधा ने उन गानों को अपनी आवाज़ देकर काफी प्रसिद्द हुई उन्होंने काफी नाम और पैसा दोनो कमाया.

लोगों ने अनुराधा के साथ गुलशन कुमार का नाम जोड़ दिया था..

गुलशन कुमार जिस तरह से अनुराधा को काम दे रहे थे उस हिसाब से लोग दोनो का नाम भी जोड़ रहे थे साथ मे जाने क्या क्या कह रहे थे लेकिन दोनो ने कभी अपने रिश्ते को लेकर कुछ नहीं कहा उनके बीच क्या रिश्ता था कभी मीडिया में इस बारे में बात नहीं की हालांकि गुलशन कुमार के गुज़र जाने के बाद अनुराधा को बड़ा झटका लगा जिसके बाद उन्होंने भजन में अपना मन लगाया और फिल्मी गीतों से दूरी बना ली.

पति के गुज़र जाने के बाद अब उनक बीटा ही उनका सहारा था लेकिन पिछले साल 12 सितंबर 2020 को आदित्य भी किडनी फेलियर की वजह से मृत्यु हो गयी और वो दुनिया को अलविदा कह गए। मक़हज़ 35 साल की उम्र में बेटे के गुजर जाने के बाद अनुराधा पौडवाल पूरी तरह से टूट गई क्योंकि पहले पति का साथ छूट गया था और फिर बेटा भी इस दुनिया में नहीं रहा और आज अनुराधा पौडवाल के परिवार में बस उनकी बेटी कविता है और वो खुद है और कविता ने भी सिंगिंग में अपना करियर बनाया है।

नोट:- यह जानकारी हमें इंटरनेट की वेबसाइट से मिली है जिसके आधार पर ये न्यूज़ लिखी गयी है The Lucknow Tribune इसकी पुष्टि नहीं करता।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper