पाकिस्तान भी हुआ PM मोदी का मुरीद, तारीफ में कह डाली ये बड़ी बात

नई दिल्ली: पीएम नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता देश में ही नहीं, बल्कि विदेशों में भी निरंतर बढ़ रही है। अब तो पड़ोसी मुल्क एवं भारत से शत्रुता रखने वाले पाकिस्तान के लोग भी नरेंद्र मोदी के मुरीद होने लगे हैं। 15 अगस्त को लालकिले से दिए गए नरेंद्र मोदी के भाषण की प्रशंसा वहां भी जमकर हो रही है। पाक के पूर्व राजनयिक एवं भारत में पाकिस्तान के उच्चायुक्त रहे अब्दुल बासित एक वीडियो में प्रधानमंत्री मोदी के इस भाषण की प्रशंसा करते नजर आ रहे हैं।

अब्दुल बासित ने नरेंद्र मोदी के इस भाषण की सराहना करते हुए कहा कि, मोदी बहुत अच्छे वक्ता हैं तथा उनके भाषण हमेशा जानदार होते हैं। वह अपने भाषणों में एक प्रभाव के साथ लोगों को अपनी तरफ आकर्षित करते हैं। उन्होंने इस भाषण में भी हमेशा की भांति देश के लोगों के लिए नई बातें कीं तथा कहा कि अगले 25 वर्षों में भारत को विकासशील से विकसित देश बनाना है। उन्होंने करप्शन एवं महिला सशक्तीकरण की भी बात की। उन्होंने जो भाषण दिया, एक नेता को इसी प्रकार भाषण देना चाहिए।

हालांकि अब्दुल बासित ने प्रधानमंत्री मोदी की कुछ बातों पर असहमति भी व्यक्त की। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी ने अपने लोगों से गुलामी की मानसिकता एवं प्रतीकों से स्वतंत्रता की बात कही है। ये बात मेरी समझ में नहीं आ रही है कि वह केवल ब्रिटिश काल को ही गुलामी मान रहे हैं या फिर मुगल राज को भी इसमें सम्मिलित कर रहे हैं, क्योंकि नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में ऐसी कई जगहों के नाम बदले जा चुके हैं जो मुगलकाल से जुड़े हुए थे। बता दें कि पाकिस्तान के पूर्व पीएम भी बीते कुछ माहों में कई बार भारत और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नीतियों की प्रशंसा कर चुके हैं। उन्होंने हाल ही में एक रैली में भारत की सराहना करते हुए विदेशमंत्री एस। जयशंकर का एक वीडियो भी दिखाया था औऱ बोला था कि इसे आजादी कहते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper