बच्चे दूध पीने में करते हैं बहाने तो बनाएं फ्लेवर मिल्क, झट से दूध होगा खत्म

नई दिल्ली. दूध को संपूर्ण आहार कहा गया है। इसलिए दूध का सेवन अच्छी सेहत के लिए बहुत जरूरी है। खासतौर पर बढ़ते बच्चों की डाइट में दूध जरूर शामिल होना चाहिए। जिससे कि उन्हें पूरे पोषक तत्व मिल सके। लेकिन बहुत सारे बढ़ते बच्चे दूध पीने में आनाकानी करते हैं। बच्चों के पीछे दूध लेकर भागने के बावजूद अगर बच्चे दूध ना पीने के बहाने बनाते हैं। तो उन्हें सादा दूध देने के बजाय अलग-अलग स्वाद के साथ दें। जिससे कि वो आसानी से पी सकें। फ्लेवर मिल्क ना केवल बच्चों को पीने में स्वादिष्ट लगेगा बल्कि इसमे मिली चीजे भी फायदेमंद होगी। तो चलिए जानें किस तरह से बनाएं अलग-अलग फ्लेवर मिल्क।

बादाम का दूध बनाने के लिए सबसे पहले बादाम को गर्म पानी में भिगो दें। करीब एक घंटे बाद बादाम का छिलका उतार दें। इन सारे बादाम को ग्राइंडर जार में डालें। साथ में गर्म दूध डालें। फिर महीन पेस्ट बनाकर तैयार कर लें। बचे दूध को गैस पर अच्छे से उबालकर पका लें। इस उबलते दूध में बादाम का पेस्ट डाल दें और धीमी आंच पर थोड़ी देर पकाएं. जब ये दूध गाढ़ा हो जाए तो गैस बंद कर दें। इस दूध में मिठास के लिए आप गुड़ या शहद डाल सकती हैं। बच्चों के लिए ये दूध सेहतमंद है और स्वाद की वजह से इसे आसानी से पी लेंगे।

लायची के स्वाद वाला दूध बच्चों के लिए फायदेमंद रहता है। साथ ही बच्चे इसे पीना पसंद करते हैं। एक गिलास गर्म इलायची वाला दूध बच्चों सुकून भरी नींद देने में मदद करता है।

दो कप दूध, तीन से चार इलायची. ब्राउन शुगर, केसर के दो से तीन धागे। इलायची के दानों को पीस लें। केसर को दो चम्मच गर्म दूध में भिगो दें। किसी बर्तन में दूध को उबालें। साथ में पिसी इलायची और केसर वाले दूध को डाल दें। इसे करीब पांच से सात मिनट तक उबालें। जब ये उबल जाए तो गैस बंद कर दें। छन्नी की मदद से दूध छान लें और ब्राउन शुगर डालकर मिलाएं। गर्मागर्म बच्चों को परोसें। इस दूध का स्वाद बच्चों को आसानी से पसंद आएगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper