बजट से पहले 13वीं किस्त पर आया बड़ा अपडेट, इस बार मिलेंगे पूरे 4000 रुपये!

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम की 13वीं किस्त का इंतजार कर रहे करोड़ों लोगों के लिए अच्छी खबर है. सरकार ने बजट से पहले बड़ा फैसला लिया है. अगर आप भी पीएम किसान स्कीम का फायदा लेते हैं तो आपके खाते में इस बार पूरे 4000 रुपये आएंगे. कृषि मंत्रालय की ओर से लिस्ट जारी कर इस बार में बताया है.

केंद्र सरकार ने बताया है कि इस बार कई किसानों को 4000 रुपये देने का फैसला किया गया है. बता दें जिन भी लोगों को 12वीं किस्त का पैसा अभी तक नहीं मिला है या फिर किसी कारण से उनका पैसा अटक गया है तो इन लोगों को 12वीं और 13वीं किस्त का पैसा एक साथ ट्रांसफर किया जाएगा.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जिन भी किसानों के खाते में पिछली किस्त का पैसा नहीं आया है उन लोगों अगली और पिछली दोनों ही किस्तों का पैसा एक साथ मिल सकता है. इस वजह से ही इन लोगों के खाते में पूरे 4000 रुपये आएंगे.

आपको बता दें पिछले साल सरकार ने 1 जनवरी को किसानों के खाते में पैसा ट्रांसफर किया था, लेकिन इस बार माना जा रहा है कि सरकार 26 जनवरी को करोड़ों किसानों के खाते में पैसा ट्रांसफर कर सकती है. फिलहाल अभी तक सरकार की तरफ से तारीख की कोई भी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है.

इसके साथ ही सरकार ने कहा है कि अभी भी जिन लोगों ने e-KYC नहीं कराई है उनके खाते में पैसा ट्रांसफर नहीं होगा. तो अभी तक जिन भी किसानों ने केवाईसी नहीं कराई है वह अपने नजदीकी सीएससी पर जाकर इसे पूरा करा लें. इसके बाद ही आपको 13वीं किस्त का पैसा मिलेगा.

अगर आपको इस स्कीम से जुड़ी किसी भी तरह की समस्या है तो आप हेल्पलाइन नंबर 155261 या 1800115526 पर या फिर इस नंबर पर 011-23381092 पर संपर्क कर सकते हैं. इसके अलावा ईमेल आईडी pmkisan-ict@gov.in पर भी मेल करके अपनी समस्या बता सकते हैं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper