बरसों कुछ लिखता रहा भिखारी, एक महिला को पता चली असल कहानी, उसने चूमा माथा और..

 

अक्सर सडकों के किनारे हमे फटे पुराने कपड़ों में बैठे भिखारी नजर आ जाते है जिन्हें ज्यादातर लोग नजरंदाज कर आगे बढ़ जाते है तो वहीँ अगर कुछ लोगो को इनपर दया आ जाती है तो इन्हें कुछ भिक्षा भी दे देते है लेकिन कभी भी कोई इन भिखारियों को करीब से जानने की कोशिश नहीं करता लेकिन आज हम आपको एक ऐसे ही भिखारी के बारे में बताने जा रहे है जिसकी सच्चाई जानकर आपका भी दिमाग हिल जायेगा |

दरअसल ब्राजील के साओ पाउलो शहर में एक महिला ने अपने व्‍यस्‍त समय से कुछ समय निकाला और सड़क बैठे भिखारी की गतिविधियों को देखकर उससे उसका हाल जाना । इसके बाद की कहानी हैरान करने वाली है ।आपको बता दे ब्राजील की सडकों पर एक भिखारी 35 सालों से गुमनामी के अँधेरे में खोया हुआ था जिसका नाम राइमुंडो अरुडो है और उसपर रोजाना सड़क से गुजरने वाली एक महिला की नजर पड़ती थी और वो महिला जब भी उस रास्ते से गुजरती थी तब वो भिखारी कुछ रद्दी के कागजों पर उसे कुछ लिखता हुआ ही मिलता था |

महिला ने ये चीज कई दिनों तक नोटिस किया और जब उससे रहा नहीं गया तो एक दिन हिम्मत करके वो उस भिखारी से पूछ ही ली की आखिर वो इन कागजों पर हमेशा क्या लिखता रहता है तब उस भिखारी ने उस महिला को वो कागज थमा दिया जिनपर वो कई साडी कविताएँ लिखे हुआ था और जब महिला ने उसकी उन कविताओं प को पढ़ा तो वो उसके टैलेंट को देखकर हैरान रह गयी और उसने ये ठान लिया की इस भिखारी की प्रतिभा को वो दुनिया के सामने लेकर आएगी और उसने वैसा ही किया जिसके बाद देखते ही देखते वो भिखारी स्टार बन गया |

आपको बता दे हम जिस महिला की बात कर रहे है उनका नाम है शाला और जब शाला को इस भिखारी के इस टैलेंट के बारे में पता चला तो शाला ने उस कविता को सबके साथ शेयर करना ठीक समझा,इसके लिए वो लगातार उस शख्स से मिलती रहती और वो भिखारी हर दिन शाला को नयी नयी कवितायेँ लिख कर देता रहता था जिसे शाला ने पहले तो अपने फेसबुक के जरिये शेयर किया जिसका काफी अच्छा रेस्पोंसे मिलने लगा तब शाला ने एक फेसबुक पेज बनाया और उसपर इन कविताओं को शेयर करना शुरू कर दिया जिसके बाद देखते ही देखते शाला के इस पेज के 1 लाखलाख फॉलोअर्स हो गए और अब लगातार इसके फोल्लोवेर्स बढ़ते ही जा रहे है और अब तक २ लाख से भी ज्यादा फॉलोअर बन चुके है |

आपको बता दे Raimundo Arrudo Sobrinho नाम का ये पेज है जिसमे शाला ने राइमुंडो का मेकओवर करके एक तस्वीर भी लगायी और जब राईमुंडो की असल शक्‍ल दुनिया के के सामने आई तो उनके परिवार वाले भी उन्हें पहचान गये और उनसे मिलने भी आये |बता दे राईमुंडो अपने परिवार से काफी दिनों से दूर रहे थे जिस वजह से उनके परिवार वालों ने बिह उनके मिलने की उम्मीद खो चुके थे लेकिन उब उन्होंने राईमुंडो को दोबारा से पा लिया तो उनकी ख़ुशी का ठिकाना ना रहा |

 

फेसबुक पर राइमुंडो की तस्‍वीरों को देख उसके भाई ने उसे पहचान लिया । तब पता चला कि राइमुंडो एक व्यापारी था जो मिलिट्री की तानाशाही के दौरान अपने घर से बिछड़ गया था और पैसों के आभावा में उसका ये हाल हो गया था। राईमुंडो से मिलने उनके कई फैन्‍स अकसर आते रहते हैं । वो अब अपने परिवार के साथ रहते हैं । हाल ही में उनका 80वां बर्थडे मनाया गया जिसका वीडियो इस पेज पर शेयर किया गया है ।

इस तरह से राईमुंडो की किस्मत एक राह चलती एक महिला ने बदल दी। ब्राजील के रैमुन्डो अरुडा सोर्बिन्हों सालों से सड़कों पर भीख मांगकर गुजारा करता था लेकिन उसके अंदर एक टैलेंट था जिस वजह से आज वो दुनिया में इतना नाम कमा रहा है |वो कहते है ना प्रतिभा और ज्ञान कभी छिपता नहीं वो किसी ना किसी तरह से सामने आ ही जाता है |

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper