बांस जलाने के इतने भयानक परिणाम, जानकर रह जाएंगे हैरान !

अगर आप भारतिय हैं और आपका नाता गांव से जुड़ा रहा है, तो आप बांस के बारे में जरूर ही जानते होंगे। यह एक प्रकार का पेड़ है जो अन्य वृक्ष के मुकाबले काफी लंबा होता है। वैसे तो इसे कई जगहों पर इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन इसका एक एक बेहद ही खास इस्तेमाल हिंदू समाज के लोगों द्वारा किया जाता है।

दरअसल, हिंदू समाज में जब किसी की मौत होती है तो उसके पार्थिव शरीर को शमशान लेजाकर अंतिम संस्कार किया जाता है। गौर हो कि पार्थिव शरीर घर से शमशान तक लेजाने के लिए इसी बांस की लकड़ी का इस्तेमाल किया जाता है। इसके पीछे का एक कारण यह है बास की लकड़ी मजबूत होने के साथ-साथ लचीली होती है।

लेकिन यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि जब व्यक्ति के पार्थिव शरीर को चिता पर रखा जाता है तब बांस की लकड़ियों को हटा लिया जाता है। तो क्या आप जानते हैं कि आखिर ऐसा क्यों किया जाता है? अगर आपका इसके बारे में नहीं जानते हैं तो यहां जान सकते हैं, लेकिन इससे पहले आपको बता दें कि इसे जान आप भयभीत भी हो सकते हैं, क्योंकि इसका इतना परिणाम बेहद ही बुरा हो सकता है!

धर्म के जानकार शास्त्रों के आधार पर बताते हैं कि बांस की लकड़ी जलाने से पितृ दोष लगता है। इसलिए बांस की लकड़ी को नहीं जलाना चाहिए! बताया जाता है कि बांस की लकड़ी को उपयोग में लाने के बाद इस नष्ट कर से मना किया जाता है। तो वहीं बांस की लकड़ी न जलाने के पीछे कुछ वैज्ञानिक कारण भी बताए गए हैं।

बताया जाता है कि बांस की लकड़ी में लेड के साथ अन्य कई प्रकार के धातु होती हैं। ऐसे में अगर आप इसे जला कर नष्ट करते हैं तो ये धातुएं अपनी ऑक्साइड बना लेती हैं, जिसके कारण न सिर्फ वातावरण दूषित होता है बल्कि यह आपकी जान भी ले सकता है, क्योंकि इसके अंश हवा में घुले होते हैं और जब आप सांस लेते हैं तो यह आपके शरीर में प्रवेश कर जाता है। जिसके कारण न्यूरो और लीवर संबंधी परेशानियां का खतरा बढ़ जाता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper