बिहार के सीएम नीतीश का दावा, ‘हमलोगों ने भ्रष्टाचारियों को बर्दाश्त नहीं किया’

पटना । बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को दावा करते हुए कहा कि हमलोगों ने इतने दिनों तक कभी भ्रष्टाचारियों को बर्दाश्त नहीं किया। इस दौरान उन्होंने बिना किसी के नाम लिए कहा कि वे क्या बोलते हैं, वही लोग जानें। नीतीश का यह बयान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के केरल में दिए गए उस बयान के बाद आया है जिसमें प्रधानमंत्री ने कहा था कि भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कार्रवाई के कारण राष्ट्रीय राजनीति में नए तरीके का ध्रुवीकरण हो रहा है।

नीतीश ने शुक्रवार को पत्रकारों के एक सवाल के जवाब में कहा कि कौन भ्रष्टाचारियों को बचा रहा है? कोई किसी भ्रष्टाचारी को बचाएगा? खुद ही सोचना चाहिए न भ्रष्टाचारियों को बचाने का। हमने तो इतने दिनों में कभी ऐसे लोगों को बर्दाश्त नहीं किया।

उन्होंने बिना नाम लिए हुए कहा कि कुछ लोग केंद्र में हैं जो कुछ भी बोलते रहते हैं। मुख्यमंत्री नीतीश ने कहा कि इधर उधर जो कुछ राज्यों में हो रहा है कहां से किसी को लाने का, वह ना सोचें लोग।

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को केरल में कहा था कि भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कार्रवाई के कारण राष्ट्रीय राजनीति में नए तरीके का ध्रुवीकरण हो रहा है।

भ्रष्टाचार और भ्रष्टाचारियों को बचाने के लिए कुछ राजनीतिक दल खुलकर सामने आ गए हैं। संगठित होने का प्रयास कर रहे हैं।

गौरतलब है कि नीतीश की पार्टी जदयू लालू प्रसाद की पार्टी राजद से मिलकर बिहार में सरकार चला रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper