बोतलबंद पानी बेचने वाली कंपनी में टाटा ग्रुप खरीदेगी हिस्सेदारी, ये है पूरा प्लान

नई दिल्ली. टाटा ग्रुप अब बोतलबंद पीने का पानी बेचने वाले सबसे ब्रांड बिसलेरी इंटरनेशनल में हिस्सेदारी खरीदने का प्लान बना रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार टाटा ग्रुप ने भारत की सबसे बड़ी पैकेज्ड वाटर कंपनी बिसलेरी जिसका स्वामित्व रमेश चौहान के पास है, उन्हें बिसलेरी इंटरनेशन में हिस्सेदारी खरीदने के लिए प्रस्ताव रखा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार टाटा समूह पैकेज्ड ड्रिंकिंग वाटर कारोबार के प्रति उत्साह दिखा रहा है और उसने बिसलेरी में हिस्सेदारी खरीदने के लिए कंपनी को प्रस्ताव दिया है। टाटा यह कदम एंट्री लेवल, मिड-सेगमेंट और प्रीमियम पैकेज्ड ड्रिंकिंग वॉटर कैटेगरी में पैर जमाने के लिए उठा रही है। उम्मीद है कि इस फैसले से कंपनी को ऐसा करने में मदद मिलेगी। इस कारोबार में एंट्री करने से टाटा का रिटेल स्टोर्स, केमिस्ट चैनल्स, इंस्टीच्यूशनल चैनल्स, होटल्स और रेडी-टू-गो मार्केट नेटवर्क बढ़ेगा। बता दें कि रेस्तरां और एयरपोर्ट के अलावा बल्क वाटर डिलिवरी में भी बिजनेस में भी बिसलेरी मिनरल वाटर लीडिंग ब्रांड है। बता दें कि टाटा ग्रुप का कंज्यूमर कारोबार काफी बड़ा बड़ा।

यह कंपनी स्टारबक्स कैफै का संचालन करती है। इसके अलावे कंपनी के पास टेटली चाय, आठ बजे कॉफी, सोलफल अनाज, नमक, दालों से जुड़े ब्रांड हैं। वहीं बोतल बंद पानी के व्यवसाय में भी न्यूरिशको ब्रांड के तहत टाटा ग्रुप का दखल है। अब ग्रुप बिसलेरी का अधिग्रहण कर बोतलबंद पानी के अपने कारोबार को नया विस्तार देना चाहती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper