मध्यप्रदेश : कमलनाथ ने बोला शिवराज सरकार पर हमला, कहा- 15 साल पर 15 महीने भारी

भोपाल। कांग्रेस की मध्यप्रदेश इकाई के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने शिवराज सिंह चौहान पर झूठ बोलने का आरोप लगाते हुए कहा है कि उनकी सरकार के 15 महीने में किए गए विकास कार्य शिवराज सरकार के 15 साल पर भारी हैं। पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा है मेरी 15 माह की सरकार के जन हितैषी कार्यों, जन हितैषी योजनाओं, विकास कार्यों, प्रदेश की दशा-दिशा बदलने के संकल्प से घबरा कर तो सौदेबाजी और बोली से मेरी सरकार बीच में ही गिरा दी गई और अब झूठ परोस रहे हैं कि मेरी सरकार ने कोई विकास कार्य नहीं किए।

कमलनाथ ने दावा किया है कि शिवराज जी, मेरी सरकार के 15 माह के कार्य, आज भी आपकी 15 वर्ष की सरकार पर भारी हैं। इसकी गवाह तो खुद प्रदेश की जनता है। कमलनाथ ने आगे कहा, “मैं तो आपको रोज चुनौती देता हूँ कि आप अपना 15 वर्ष का हिसाब लेकर जनता के बीच आ जाइए और मैं भी अपना 15 माह का हिसाब लेकर आ जाता हूँ, जनता खुद फैसला कर लेगी।”

कमलनाथ ने जनता की समस्याओं का जिक्र करते हुए कहा, “आपने पिछले 15 वर्ष में जनहित के कार्य किए होते तो आपको आज यूँ भटकना नहीं पड़ता और आज भी झूठी घोषणाओं से गुमराह करने वाले झूठे सपने दिखाना नहीं पड़ते।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper