ममता ने मोदी से एफबीपी के विस्तारित अधिकार क्षेत्र को बहाल करने का किया अनुरोध

कोलकाता: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर फरक्का बैराज परियोजना (एफबीपी) के विस्तारित अधिकार क्षेत्र को बहाल करने का अनुरोध किया।

सुश्री बनर्जी ने पत्र में कहा, “कृपया 21 फरवरी, 2022 (प्रति संलग्न) के मेरे पत्र को याद करें, जिसमें मैंने अन्य बातों के अलावा, मुर्शिदाबाद के मालदा जिला में गंगा-पद्मा नदी प्रणाली द्वारा उत्पन्न कटाव के गंभीर खतरे पर प्रकाश डाला था। आपसे एक बार फिर फरक्का बायेज प्रोजेक्ट (एफबीपी ) के विस्तारित अधिकार क्षेत्र को बहाल करने का अनुरोध करती हूं।”

उन्होंने कहा, “केंद्रीय जल शक्ति मंत्री ने अपने पत्र दिनांक 28 जुलाई, 2022 के माध्यम से मेरे पत्र में उठाए गए मुद्दों पर जवाब दिया है। मैंने इसका विस्तार से अध्ययन किया है और आपके सामने निम्नलिखित तथ्य रखना चाहती हूं। “

उन्होंने कहा, “आप कृपया जानते हैं कि पश्चिम बंगाल एक व्यापक रूप से नदी-उन्मुख राज्य है, जिसमें गंगा एक महत्वपूर्ण नदी है। यह सच है कि केंद्र सरकार के तहत फरक्का बैराज के निर्माण का मुख्य उद्देश्य गंगा के 40,000 क्यूसेक जल को भागीरथी-हुगली नदी प्रणाली की ओर मोड़ना है, ताकि कोलकाता बंदरगाह की नौवहन क्षमता बनी रहे।”

उन्होंने कहा कि इसका नतीजा यह हुआ कि नदी के दोनों किनारों पर काफी गाद जमा हो रही है। इससे हर साल नदी का किनारा टूट जा रहा है। बंगाल ही नहीं बल्कि बिहार सरकार ने भी इस समस्या की ओर केंद्र का ध्यान खींचा है।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper