माता-पिता ने अपने बेटे की दी आठ लाख में सुपारी, हत्या की वजह जानकर हो जाएंगे हैरान

 

हैदराबाद. अपने शराबी बेरोजगार बेटे के उत्पीड़न से तंग आ चुके एक सरकारी स्कूल के प्रधानाध्यापक और उनकी पत्नी ने कथित तौर पर अपने बेटे की सुपारी देकर उसे मौत के घाट उतरवा दिया. घटना शहर के खम्मम क्षेत्र की है जहां माता-पिता ने ही अपने इकलौते बेटे की आठ लाख में सुपारी दी. पुलिस ने 26 वर्षीय साई राम की हत्या के आरोप में चार हमलावर सहित क्षत्रिय राम सिंह और रानी बाई को गिरफ्तार किया है. हमलावरों पर साई राम की गला घोटकर हत्या और क्षत्रिय राम सिंह व रानी बाई पर सुपारी देने का आरोप लगा है.

18 अक्टूबर को सूर्यापेट के मुसी में पुलिस को एक व्यक्ति का शव मिला था जिसकी गला घोंटकर हत्या कर दी गई थी. सीसीटीवी फुटेज खंगालने पर पुलिस को अपराध में प्रयुक्त परिवार की कार दिखाई दी थी. वहीं जब दंपति शव की पहचान करने मुर्दाघर गए थे तब उन्होंने उसी वाहन का प्रयोग किया जिससे वह पकड़े गए. पुलिस के मुताबिक दंपति ने कभी भी अपने पुत्र की गुमशुदगी दर्ज नहीं कराई थी.

राम सिंह एक सरकारी गुरुकुल के प्राचार्य हैं और दंपति की बेटी अमेरिका में रहती है. पुलिस ने कहा कि पूछताछ में दंपति ने बताया कि उनका बेटा शराब के पैसे न देने पर उनके साथ मारपीट और गाली गलौच करता था. हुजूराबाद सर्कल इंस्पेक्टर राम लिंग रेड्डी के अनुसार, दंपति ने अपने बेटे को मारने के लिए रानी बाई के भाई सत्यनारायण से मदद मांगी थी. 18 अक्टूबर को सत्यनारायण और एक हत्यारा साई राम को गाड़ी से एक मंदिर के पास ले गए थे जहां उन्होंने साई राम को जमकर शराब पिलाई और फिर रस्सी से गला घोंटकर हत्या कर दी.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper