यामी गौतम ने बॉलीवुड के काले सच से कराया रूबरू, छोड़ देना चाहती थीं इंडस्ट्री, 10 साल बाद छलका दर्द, बोली…

मुंबई. अभिनेत्री यामी गौतम पिछले 10 सालों में अपनी खास पहचान बना चुकीं हैं. साल 2012 में विकी डोनर मूवी से अपने फिल्मी करियर की शुरुआत करने वाली यामी ने बॉलीवुड के काले सच से पर्दा हटाया है. हाल ही में बॉलीवुड बबल को दिए इंटरव्यू में यामी ने अपने स्ट्रगल के दौर के किस्से सुनाए. साथ ही बॉलीवुड में कास्टिंग को लेकर होने वाले गड़बड़ सिस्टम की भी पोल खोली है. इतना ही नहीं यामी गौतम ने अवॉर्ड्स शो के बारे में सच्चाई बताते हुए विश्वसनीयता पर सवाल खड़े किए हैं.

बीते साल यामी ने शानदार फिल्में कीं हैं और ओटीटी प्लेटफॉर्म पर छाईं रहीं. बॉलीवुड बबल को दिए इंटरव्यू में यामी ने बताया कि ऐक दौर ऐसा भी आया था जब उन्होंने इंडस्ट्री छोड़ने का मन बना लिया था. यामी ने कहा कि यहां सिर्फ दिखावे को महत्व दिया जाता है. साथ ही यहां मौके को लेकर भी कशमकश रहती है. मौके मिलने को लेकर यहां कास्टिंग सिस्टम सभी के साथ एक जैसा बर्ताव नहीं करता.

यामी ने इंटरव्यू में कहा कि मैं कोई मुहिम शुरू नहीं कर रही हूं. लेकिन हर किसी के करियर में ऐक ऐसा दौर आता है जब कई चीजें आपको बुरी लगतीं हैं. लेकिन आप इसके बारे में कुछ नहीं कर सकते. अपने करियर की स्टर्टिंग में मुझे भी इस सच का सामना करना पड़ा. यामी ने बताया कि अवॉर्ड फंक्शन्स के भी यही हाल रहते हैं. अगर आप लीड रोल में भी हैं और फेमस नहीं हैं तो आपको इंटरव्यू के लिए नहीं बुलाया जाता. अभी मुझे हर जगह बुलाया जाता है लेकिन मैं उन दिनों की बात कर रही हूं जब मैं अपनी पहचान बनाने की मशक्कत कर रही थी.

यामी गौतम ने कहा कि मैं इंडस्ट्री में 10 साल से भी ज्यादा समय से सक्रिय हूं. मेरे पास कोई बड़ी पीआर टीम नहीं है. मैं कई प्रोड्यूसर्स से मिलती हूं जो कहते हैं कि आप अपने पीआर पर ध्यान दो. हिट लिस्ट में शामिल होने के लिए ये सब करना पड़ता है. जब आप एक स्टार हैं तो आपके आगे-पीछे लोग दौड़ते हैं, पैपराजी आपकी फोटो क्लिक करना चाहती है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper