ये हैं शनि की कृपा होने के पूर्व संकेत, आपको मिलें तो समझ जाएं जल्‍द होंगे अमीर!

नई दिल्ली. न्‍याय के देवता और कर्मों के अनुसार फल देने वाले शनि देव की कृपा होते ही व्‍यक्ति का जीवन हर सुख-संपन्‍नता से भर जाता है. वहीं शनि की नाराजगी जीवन को बर्बाद करने में देर नहीं लगाती है इसलिए लोग शनि देव से बहुत डरते हैं. उस पर शनि की साढ़े साती और ढैय्या जैसी महादशा बहुत कष्‍ट देती हैं. हालांकि शनि जब कृपा करते हैं तो व्‍यक्ति को चौतरफा लाभ मिलता है.

जिस तरह शनि खराब होने के लक्षण जीवन में साफ नजर आते हैं, वैसे ही शनि के शुभ होने या शनि देव की कृपा मिलने के संकेत भी मिलते हैं. आइए जानते हैं कि वे कौनसे संकेत हैं जो बताते हैं कि व्‍यक्ति पर शनि की कृपा होने लगी है या होने वाली है.

– यदि शनिवार के दिन जूते-चप्‍पल चोरी हो जाएं तो यह बहुत ही शुभ संकेत है. यह बताता है कि आप पर शनि देव खुश हो गए हैं और अब एक-एक करके आपके सारे काम बनने लगेंगे.

– यदि आपको अचानक कहीं से पैसा मिल जाए या आप तेजी से अमीर बनने लगें तो समझ लें कि आप पर शनि की कृपा हो गई है. शनि अपार धन-वैभव और ऐश्‍वर्य देने वाले हैं. ऐसा होने पर खूब दान-पुण्‍य करें. गरीबों की मदद करें.

– यदि आपका तेजी से मान-सम्‍मान बढ़े तो मान लें कि यह शनि की आप पर मेहरबानी का फल है. शनि की जब कृपा होती है तो व्‍यक्ति की ख्‍याति दूर-दूर तक फैल जाती है. ऐसे में शनि देव का धन्‍यवाद करें और उनका पूजा-पाठ करें.

– शनि की कृपा अच्‍छी सेहत भी देती है. यदि आपकी सेहत लगातार अच्‍छी रहे, किसी तरह का कोई कष्‍ट न हो तो यह भी शनि देव की कृपा होने का संकेत है. ऐसा होने पर रोगियों की मदद के लिए दान करें. साथ ही शनिवार को शनि मंदिर जाकर उनकी पूजा करें.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper