टेक्नोलॉजीबिजनेस

वर्ल्ड कप के बीच चीनी कंपनियों का चौंकाने वाला फैसला, अब भारत में नहीं बेचेंगी ये इलेक्ट्रॉनिक सामान, जानिए वजह

नई दिल्ली। चीन की टॉप इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनियों वनप्लस (OnePlus) और रियलमी (RealMe) ने भारत में टेलीविजन का प्रॉडक्शन और सेल बंद कर दी है। दोनों कंपनियों ने भारत के स्मार्ट टीवी मार्केट में अच्छा-खासा बिजनस हासिल कर लिया था लेकिन अचानक उन्होंने इस बिजनस से बाहर निकलने का फैसला किया है। चीन की कंपनी शाओमी भारत के स्मार्ट टीवी बाजार में नंबर वन है। जानकारों का कहना है कि वनप्लस और रियलमी स्मार्टफोन बिजनस में बनी रहेंगी। सवाल यह है कि इन कंपनियों ने ऐसे समय में स्मार्टफोन टीवी मार्केट से किनारा क्यों किया जब देश में टीवी की बिक्री में काफी तेजी आई है?

इन कंपनियों ने भारत में टीवी के सेल्स चैनल और ब्रांडिंग में निवेश किया था। इंटरनेट बूम और डेटा की कीमतों में कमी के कारण हाल में देश में स्मार्ट टीवी मार्केट में काफी तेजी आई है। साथ ही नेटफ्लिक्स, ऐमजॉन प्राइम और डिज्नी हॉटस्टार जैसी स्ट्रीमिंग सर्विसेज के ग्रोथ ने भी देश स्मार्ट टीवी की ग्रोथ में अहम भूमिका निभाई है। इस मामले में वनप्लस और रियलमी की मीडिया टीमों ने सवालों का कोई जवाब नहीं दिया। दोनों कंपनियों ने ऐसे समय में टीवी मार्केट से किनारा किया है जबकि क्रिकेट वर्ल्ड कप के कारण देश में टीवी की बिक्री में भारी तेजी देखी जा रही है। साथ ही फेस्टिव सीजन भी चल रहा है। इस वजह से टीवी समेत सभी इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स की बिक्री में तेजी आई है।

इंटरनेशनल डेटा कॉरपोरेशन (IDC) के मुताबिक इस साल की पहली छमाही में देश में 45 लाख टीवी डीलरों को भेजे गए हैं जो पिछले साल के मुकाबले आठ परसेंट ज्यादा है। इस दौरान देश में टीवी की बिक्री में ऑनलाइन सेल का हिस्सा 39 परसेंट पहुंच गया है। भारत में एलजी, सैमसंग, सोनी, पैनासोनिक के अलावा चीन की कंपनियां शाओमी और टीसीएल भी टीवी बेचती हैं। साथ ही घरेलू कंपनी वू और ब्रांड लाइसेंसिंग के तहत थॉमसन भी टीवी बेचती हैं।

चाइनीज कंपनियों शाओमी, वनप्लस, रियलमी, टीसीएल और iFfalcon ने 2017-18 में भारत के स्मार्टफोन टीवी मार्केट में तहलका मचा दिया था। इन कंपनियों ने एलजी, सैमसंग और सोनी से 30 से 50 परसेंट सस्ते मॉडल उतारे थे और जल्दी ही मार्केट पर अपनी पकड़ बना ली थी। जानकारों का कहना है कि चाइनीज टीवी ब्रांड्स की स्ट्रैटजी कीमतों में कटौती करके जल्दी से मार्केट कब्जाने की थी। इससे उनका नुकसान बढ़ गया। यही वजह है कि अब वे टीवी सेगमेंट से निकल गए हैं। उनका जोर अब पूरी तरह स्मार्टफोन बाजार पर है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
E-Paper