विलायती धरा पर बजा हिंदुस्तानी लाल का डंका, सभी अंग्रेज नेता पस्त, भारतीय मूल के ऋषि सुनक बन सकते हैं इंग्लैंड के PM

नई दिल्ली। वैसे ये कोई पहली बार नहीं है कि जब किसी भी विलायती मुल्क में भारतीय मूल के शख्स ने अपनी प्रतिभा का डंका बजवाया हो, बल्कि इससे पहले भी कई मौकों पर लोग अपनी काबिलियत का डंका बजवा चुके हैं, जिसकी गूंज ने हर हिंदुस्तानी के दिल को प्रफुल्लित किया है। अब इसी बीच खबर इंग्लैंड से सामने आ रही है, जहां भारतीय मूल के ऋषि सुनक प्रधानमंत्री की कुर्सी पर विराजमान हो सकते हैं, क्योंकि उनके पक्ष में सर्वाधिक वोट जाते हुए नजर आ रहे हैं। हालांकि, अभी तक काउंटिग पूरी हुई नहीं है, तो इस संदर्भ में अधिकृत रूप से कोई टिप्पणी करना उचित नहीं रहेगा, लेकिन वर्तमान परिदृश्य में उनके प्रधानमंत्री की कुर्सी पर विराजमान होने की संभावना प्रबल नजर आ रही। आइए, जरा आपको हम इसके बारे में आंकड़ों के साथ विस्तारपूर्वक बताते हैं।

ऋषि सुनक कंजरवेटिव पार्टी से हैं, तो पार्टी की तय प्रक्रिया के अनुरूप किसी भी नेता का चयन तीन प्रक्रियाओं के तहत किया जाता है, जिसमें सबसे पहले नॉमिनेशन, एलिमिनेशन और फाइनल सेलेक्शन होता है। बता दें कि नॉमिनेशन हो चुका है। अब एलिमिनेशन राउंड चल रहा है। अभी तक सबसे आगे ऋषि चल रहे हैं, तो ऐसे में उनके प्रधानमंत्री की कुर्सी पर विराजमान होने की संभावना प्रबल नजर आ रही है। हालांकि उनकी टक्कर एक और भारतीय राजनेता सुएला ब्रेवरमैन से है. इस फेज में कुल 8 उम्मीदवार हैं। ध्यान रहे कि नॉमिनेशन की प्रक्रिया संपन्न हो चुकी है।

मिली जानकारी के मुताबिक, अब वोटिंग होने वाली है। अगर उनकी झोली में 30 वोट आते हैं, तो उनका प्रधानमंत्री बनना तय माना जाएगा। लेकिन अगर वे अपनी झोली में 30 से कम बटोरते हैं, तो वे प्रधानमंत्री बनने की रेस से बाहर हो जाएंगे। अब देखना होगा कि आगे की तय प्रक्रियाओं में ऋषि सुनक खरे उतकर प्रधानमंत्री की कुर्सी पर काबिज हो पाते हैं की नहीं। यह तो फिलहाल आने वाला वक्त ही बताएगा। बता दें कि बीते दिनों ब्रिटेन में जारी राजनीतिक संघर्ष के बीच बेरिस जॉनसन ने प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper