25 लड़कियों को बेसमेंट में बंधक बनाकर रखा, हर रोज किया गया रेप-कई हुईं प्रेग्नेंट

कीव: बूचा में ह्दयविदारक नरसंहार ने सबको हिलाकर रख दिया। अब नया दावा सामने आया है जिसमें कहा जा रहा है कि करीब 25 लड़कियों को रूसी सैनिकों ने बंधक बनाकर रखा था। अधिकतर लड़कियों की उम्र 14 से 24 साल के बीच है। इन लड़कियों से रोज रेप किया गया जिसकारण अब ये गर्भवती हो गई हैं। इनमें से कई लड़कियों की हालत खराब है। कई लड़कियों को तो कई दिनों तक बिना कपड़ों के रखा गया और सैनिक बार-बार उनसे रेप करते रहे।

शारीरिक शोषण के अलावा लड़कियों का मानसिक शोषण भी शामिल है जिसमें लड़कियों से मारपीट करना और उनसे दुव्र्यवहार करना आदि शामिल हैं।  हाल ही में यूक्रेन क्री संसद की सदस्य लीजिया वासिलेंक ने आरोप लगाया था कि रूसी सैनिक लड़कियों का रेप कर उनकी हत्या कर रहे हैं।  यह दावा यूक्रेनी मानवाधिकार परिषद की रिपोर्ट में किया गया है।

दरअसल बूचा शहर में एक सामूहिक कब्रिस्तान मिला जिसमें से 300 से ज्यादा यूक्रेनी नागरिकों के क्षत-विक्षत शव बरामद किए गए। कई शव तो ऐसे थे जिनके माथे पर गोली का निशान मिला। बूचा शहर की विचलित करने वाली इन तस्वीरों से दुनियाभर में कोहराम मच गया। चारों तरफ इस घटना की निंदा हो रही है। यूक्रेन पर हमले के बाद करीब एक महीने से बूचा शहर रूसी सैनिकों के कब्जे में है। यूक्रेन ने रूस पर बूचा में नरसंहार और युद्ध अपराध का आरोप लगाया है। हालांकि रूस इन आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए कह रहा है कि रूस की छवि खराब करने के लिए ये साजिश रची गई है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper