’35 क्या 36 टुकड़े भी कर देता श्रद्धा के…’, हत्याकांड पर आफताब के समर्थन में आया ये शख्स

बुलंदशहर: श्रद्धा हत्याकांड ने देशभर को हिला रखा है वही जहाँ इस वारदात को अंजाम देने वाले आफताब पूनावाला से पूरा देश नफरत कर रहा है। वहीं उसके समर्थन में भी कुछ लोग देखने को मिल रहे हैं। सोशल मीडिया पर ऐसे ही एक व्यक्ति का वीडियो सामने आया है। इस वीडियो में कट्टरपंथी शख्स पत्रकार से बता रहा है कि यदि गुस्सा आ जाए तो इंसान 35 क्या, 36 टुकड़े भी कर देता है। उसकी भी यदि किसी से लड़ाई हो तो वो भी ऐसा कर सकता है।

वीडियो में सुन सकते हैं कि शख्स इस बात को दोहराता है कि यदि आदमी का दिमाग खराब हो तो वो 35 क्या 36 टुकड़े भी कर देता है। जब पत्रकार उससे पूछती है कि ये ट्रेनिंग कहाँ से मिलती है तो वो शख्स बोलता है कि इसमें ट्रेनिंग की क्या आवश्यकता। चाकू लो और यूँ ही बजाते चले जाओ। पत्रकार शख्स से बोलती है कि लगता है आपको अनुभव है। इस पर वो बोलता है, “हाँ मुझे अनुभव है। यदि मेरी किसी से लड़ाई हो तो मैं गाड़ दूँगा। यारी-दोस्ती में थोड़ी करूँगा पर ऐसा…जिससे लड़ाई होगी उससे ही।”

आफताब के घिनौने जुर्म को जायज बताने वाले इस शख्स का नाम राशिद खान है। सोशल मीडिया पर इसकी क्लिप साझा की जा रही है। इसमें वो आफताब की गलती मानने की बजाय सामान्य होकर कह रहा है, “गलत किया या सही पर उसने कर दिए होंगे 35 टुकड़े। अधिक नहीं किए होंगे तो 35 कर दिए होंगे। दोनों की गलती रही होगी। एक चली गई। दूसरा भी चला जाएगा।” आपको बता दें कि आफताब के समर्थन में उतरे राशिद खान का यह वीडियो सामने आने के पश्चात् लोग उसकी गिरफ्तारी की माँग कर रहे हैं। मगर राशिद खान अकेला व्यक्ति नहीं है जिसने खुलकर आफताब के जुर्म को जायज ठहराकर श्रद्धा के क़त्ल का मजाक बनाया हो।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper