बिजनेसलाइफस्टाइल

7 करोड़ लोगों के लिए बड़ी खुशखबरी! सरकार ने बढ़ा दिया पीएफ पर ब्‍याज, जाने अब कितना मिलेगा रिटर्न?

नई दिल्ली। दिल थामकर बैठे करोड़ों पीएफ खाताधारकों के लिए आखिरी खुशखबरी आ ही गई. कर्मचारी भविष्‍य निधि संगठन के ट्रस्‍ट ने मंगलवार को चालू वित्‍तवर्ष के लिए ब्‍याज दरें बढ़ाने का फैसला किया है. अब EPFO के 7 करोड़ से अधिक खाताधारकों को 8.15 फीसदी का ब्‍याज मिलेगा.

EPFO के सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्‍टीज की दो दिन चली बैठक के बाद पीएफ की ब्‍याज दरों में 0.05 फीसदी बढ़ोतरी का फैसला किया गया. पिछले वित्‍तवर्ष में इसकी ब्‍याज दर 8.10 फीसदी थी, जो अब बढ़कर 8.15 फीसदी हो गई है. इससे पहले पीएफ की ब्‍याज दर सबसे कम 1977-78 में 8 फीसदी रही थी.

ऐसा नहीं है कि EPFO के ट्रस्‍टीज की मुहर के बाद पीएफ खाते पर नई ब्‍याज दर लागू हो जाएगी. इसके लिए अभी सरकार की मंजूरी लेना भी जरूरी है. 2022-23 के लिए तय की गई ब्‍याज दर की वित्‍त मंत्रालय भी समीक्षा करेगा और उसकी मुहर लगने के बाद ही ब्‍याज का पैसा खाते में भेजने का रास्‍ता साफ होगा. गौरतलब है कि वित्‍तवर्ष 2021-22 के ब्‍याज का पैसा भी अभी तक पीएफ खाताधारकों को नहीं मिल सका है.

कयास लगाए जा रहे थे कि इस बार पीएफ खाते पर ब्‍याज दर को एक बार फिर घटाकर 8 फीसदी किया जाना है. लेकिन ट्रस्‍टीज को लगा कि महंगाई को देखते हुए खाताधारकों को ज्‍यादा ब्‍याज दिया जाना चाहिए. बैठक के पहले दिन केंद्रीय श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव और ट्रस्‍टीज के बीच हायर पेंशन के मुद्दे पर भी बातचीत हुई. इसमें जानकारी दी गई कि ईपीएफओ योग्‍य सब्‍सक्राइबर को हायर पेंशन उपलब्‍ध कराने की प्रक्रिया पूरी कर रहा है.

पीएफ पर ब्‍याज दर वित्‍तवर्ष 2018-19 के बाद से लगातार घटती जा रही है. बीते वित्‍तवर्ष में ब्‍याज दर 8.10 फीसदी किए जाने से सरकार को 450 करोड़ रुपये की बचत हुई थी. ऐसे में लग रहा था कि इस साल भी इतनी ही ब्‍याज दर रहेगी या फिर घटाकर 8 फीसदी कर दी जाएगी. 2018-19 में पीएफ पर ब्‍याज 8.65 फीसदी था, जो 2019-20 में घटाकर 8.50 फीसदी कर दिया गया. 2020-21 में भी ब्‍याज दर इतनी ही थी, जबकि 2021-22 में इसे घटाकर 8.10 फीसदी कर दिया गया था.

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
E-Paper