8 साल तक पेड़ से बंधी रही युवक की जिंदगी, दिल को झकझोर देने वाला मामला

नई दिल्ली: आजकल कई चौकाने वाले मामले सामने आते रहते हैं, ऐसे में हाल ही में जो मामला सामने आया है यह गुजरात का है। जी दरअसल गुजरात के राजकोट ज‍िले के बोटाद तालुका में एक चौकाने वाला मामला सामने आया है। सुनकर आपके होश उड़ जाएंगे। जी दरअसल यहां एक 22 साल का युवक महेश बीते आठ सालों से एक पेड़ से बंधे हुए अपना जीवन जी रहा है। सुनकर आपको यकीन तो नहीं हो रहा होगा लेकिन यह सच है। हालांक‍ि अब उसके अच्‍छे द‍िन आने वाले हैं। जी दरअसल एक सामाजिक कार्यकर्ता के प्रयासों के चलते महेश को जल्द ही अपना जीवन गौरव के साथ जीने का मौका मिल सकता है।

आप सभी को बता दें कि 22 साल के महेश का व्‍यहार आठ साल पहले अचानक उग्र हो गया और उसने दूसरों से हिंसक व्यवहार करना शुरू किया। हर क‍िसी को मारना, उसपर पत्‍थर फेंकना यह सब उसकी आदत बन गया। ऐसा होते देख गरीबी से त्रस्त झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाले महेश के परिवार ने उसको नग्न अवस्था में पेड़ से बांध दिया। इस मामले में महेश के पिता प्रागजी ओलकिया ने बताया कि उनका बेटा मानसिक रूप से बीमार है। इस वजह से वह हिंसक हो जाता है। उन्होंने कहा ‘अगर कोई उसके पास जाता है तो वह पथराव शुरू कर देता है। हम बहुत गरीब हैं और उसके इलाज या उसे कहीं भी रखने के लिए हमारे पास कोई संसाधन नहीं है। इसलिए, हमने उसे एक पेड़ से जंजीर से बांधकर रखना है।’

इस मामले में YouTube पर खजुभाई के नाम से मशहूर सोशल मीडिया कॉमेडियन नितिन जानी को हाल ही में अपने सोशल मीडिया हैंडल पर इस परिवार के बारे में एक मैसेज मिला और वह उनसे मिलने गए। आपको बता दें कि जानी इससे पहले पिछले साल के चक्रवात के बाद सामाजिक कार्यों में लगे थे और उन्होंने कई तबाह परिवारों की मदद की थी। वहीं मीडियाकर्मियों से बात करते हुए जानी ने कहा क‍ि हमने गांव के बाहरी इलाके में परिवार के लिए एक घर बनाया है। हमने वहां ब‍िजली और पंखे भी लगा दिए हैं। महेश को खाना-पानी भी दिया है। वह मौजूदा समय में हिंसक है। एक-दो दिन में हम उसे इलाज के लिए किसी साइकोलॉज‍िस्‍ट के पास ले जाएंगे। यह एक बड़ी खुशखबरी मानी जा सकती है कि अब महेश का इलाज होगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper