Jyotish Tips: उंगलियों की बनावट से जान सकते हैं व्यक्ति के बारे में

नई दिल्ली: हस्तरेखा शास्त्र में जिस तरह हथेली में बनी रेखाएं व्यक्ति की किस्मत को व्यक्त करती हैं, उसी तरह हाथों की उंगलियों की बनावट भी व्यक्ति के बारे में बहुत कुछ बताती हैं। आपके हाथों के उंगलियों को देखकर यह पता लगाया जा सकता है कि जीवन संतुलित रहेगा या परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। हर किसी की उंगलियों में आपको अंतर देखने को मिल जाएगा। इसके लिए सबसे पहले हथेली की उंगलियों को फैलाकर देखें कि इनमें झुकाव तो नहीं है। तो आइये जानते हैं इसके बारे में कि आपकी उंगली की बनवाट आपके स्वभाव के बारे में क्या कहती है।

झुकी हुई उंगलियाँ
अगर आपकी उंगलियां झुकी हुई हैं या फिर एक दूसरे की ओर उनका झुकाव है तो समझ जाइए कि आप का स्वभाव बहुत ही लचीला है। खासतौर पर अगर आपके हाथों की सभी उंगलियों का झुकाव मध्यमा यानि बीच वाली उंगली की तरफ है तो यह इस ओर इशारा करता है कि आपके शनि पर्वत का गुण बढ़ा हुआ है।

क्या कहता है अंगूठा
अंगूठे का अधिक मोटा होना सही नहीं है, ऐसा व्यक्ति काफी गुस्सैल प्रवृति का होता है। वहीं अंगूठे का चौड़ा नाखून, सही लंबाई और मोटाई होने पर व्यक्ति सही निर्णय लेता है। लोग उनसे राय मांगने भी आते हैं। अगर अंगूठा लंबा है और बाहर की तरफ मुड़ रहा है तो वह आत्मविश्वासी व कार्यकुशल होता है। छोटा और निर्बल अंगूठा व्यक्ति को जीवन में काफी कमजोर और असफल बनाता है।

अनामिका उंगली/रिंग फिंगर
अनामिका उंगली की बनावट में भी आपके स्वभाव की झलक नजर आती है। अगर आपकी रिंग फिंगर सीधी है और उसकी बनावट लंबी है तो समझ जाएं कि आपको धन की कमी कभी नहीं होगी। आप खूब धन कमाएंगे और आपकी आर्थिक स्थिति हमेशा अच्छी बनी रहेगी। अनामिका यानी सूर्य उंगली लंबी है तो वह व्यक्ति कला, संगीत, कविता या फिर लेखन कार्य में सफल होता है। अगर अनामिका उंगली मध्यमा उंगली के बराबर है तो यह शुभ संकेत नहीं है। ऐसा व्यक्ति जुए, शराब जैसे गलत कार्यों में संलग्न रह सकता है। वहीं अनामिका छोटी होने पर व्यक्ति को अपने मान-सम्मान के लिए जीवन भर संघर्ष करना पड़ता है।

तर्जनी उंगली की अवस्था
तर्जनी उंगली अंगूठे के बगल वाली उंगली को कहते हैं। इसकी बनावट भी व्यक्ति के स्वभाव को दर्शाती है। अगर व्यक्ति की तर्जनी उंगली का झुकाव अंगूठे की तरफ ज्याद है तो समझ जाएं कि यह अवस्था बताती है कि व्यक्ति में कितना अहंकार है। वहीं अगर तर्जनी उंगली का झुकाव बीच वाली उंगली यानि मध्यमा की ओर होता है तो इसका अर्थ है कि व्यक्ति खुले मिजाज का है। अगर तर्जनी उंगली मध्यमा उंगली के बराबर है है तो व्यक्ति लोगों को अपना दबदबा बनाकर रखने वाला होता है। मध्यमा उंगली अगर अनामिका उंगली के बराबर हो तो व्यक्ति कई भाषाओं का जानकार और धनवान होता है।

मध्यमा उंगली/बीच वाली उंगली की अवस्था
अपने हाथ की बीच वाली उंगली को गौर से देखें अगर इस उंगली का झुकाव तर्जनी उंगली की ओर ज्यादा है तो समझ जाएं कि व्यक्ति स्वभाव से काफी गंभीर होगा। ऐसा व्यक्ति कोई काम या बात सोच विचार करके ही करता है और जब तक वह स्थिति को समझ नहीं लेता रिएक्ट नहीं करता है। ऐसे व्यक्ति में अहंकार की भावना भी नहीं होती है। वह बेहद सुलझा हुआ इंसान होता है। जिन लोगों की मध्यमा अंगुली सुंदर और उचित लंबाई वाली होती है तो वे लोग समझदार होते हैं। ऐसे लोगों किसी भी काम को बहुत ही अच्छे ढंग से और समझदारी के साथ करते हैं।

कनिष्ठ/छोटी उंगली की अवस्था
आपके हाथ की सबसे छोटी उंगली यानि कनिष्ठ की अवस्था भी बहुत कुछ बयान करती है। अगर आपकी कनिष्ठ उंगली अनामिका उंगली की ओर झुकी हुई है तो समझ जाएं की आपके स्वभाव में स्वार्थ हमेशा प्रबल रहता है। वहीं अगर आपकी कनिष्ठ उंगली हथेली से बाहर की दिशा में जा रही है तो यह आपके लापरवाह होने की ओर इशारा करती है। यह उंगली अगर अनामिका के नाखून वाले ऊपरी पोर तक पहुंचे तो व्यक्ति बुद्धि बल से जीवन में काफी प्रगति करता है। अगर कनिष्ठा काफी छोटी है तो व्यक्ति धन का लालची हो सकता है, ऐसे लोग गलत तरीके से भी धन कमाने के लिए तैयार रहते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper