Vastu tips : घर का मुख्य द्वार बनवाते समय ज़रूर ध्यान में रखें यह बातें वरना हो जाएँगे कंगाल

 

ऐसा कहा जाता है कि लोगों की तरह ऊर्जा मुख्य द्वार से आपके घर में प्रवेश करती है। अपने घर में ऊर्जा और समृद्धि के अच्छे प्रवाह को बनाएरखने के लिए वास्तु के अनुसार अपने मुख्य द्वार को डिजाइन करने के लिए यहां कुछ मुख्य द्वार वास्तु टिप्स दिए गए हैं।

वास्तु के अनुसार, प्रवेश द्वार मुख्य रूप से उत्तर, उत्तर–पूर्व, पूर्व या पश्चिम की ओर होना चाहिए, क्योंकि ये समृद्धि लाता हैं। यदि आपको मुख्यद्वार दक्षिण की ओर रखना है, तो मुख्य द्वार या हेलिक्स के लिए वास्तु पिरामिड रखें, ताकि मुख्य द्वार का वास्तु ठीक किया जा सके। वास्तु केअनुसार मुख्य द्वार के खुलने की दिशा की बात करें तो मुख्य द्वार वामावर्त खोलना वास्तु दोष है। दरवाजा दक्षिणावर्त दिशा में अंदर की ओरखुलना चाहिए।

प्रवेश द्वार किसी अन्य दरवाजे के अनुरूप नहीं है, जैसे कि मुख्य द्वार। यह न केवल प्रवेश द्वार पर पड़ने वाली किसी भी छाया को रोकता है। यहखराब ऊर्जा और धूल को भी बाहर रखता है। ध्यान दें कि वास्तु दिशा–निर्देशों के अनुसार मुख्य द्वार के पास कोई स्नानघर नहीं होना चाहिए।

वास्तु के अनुसार आपके मुख्य द्वार का रंग सॉफ़्ट होना चाहिए जैसे हल्का पीला, बेज, या लकड़ी जैसे मिट्टी के रंग। लाल या नारंगी जैसेचमकीले रंगों से दूर रहें। मुख्य द्वार के आसपास का क्षेत्र साफ–सुथरा होना चाहिए। मुख्य द्वार के पास कूड़ेदान, टूटे हुए मल या कुर्सियों को रखने से बचें। इसके बजाय, मुख्य द्वार को स्वस्तिक, ओम, क्रॉस, रंगोली और यहां तक कि दरवाजे के ठीक बाहर रखे फूलों जैसे दिव्य प्रतीकों से सजाएं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper