बिजनेस

एलआईसी पॉलिसीधारकों के लिए खुशखबरी, 5 साल से बंद पड़ी बीमा पॉलिसी करा सकेंगे चालू, लेट फीस पर मिलेगी इतने फीसदी की छूट

नई दिल्ली. देश में करोड़ों लोगों भारतीय जीवन बीमा निगम के पॉलिसीधारक हैं. अपने इन करोड़ों बीमाधारकों को एलआईसी ने बड़ी राहत देते हुए, वर्षों से बंद पड़ी पॉलिसी को फिर चालू करने का मौका दे रही है. खास बात है कि पॉलिसी प्रीमियम पर लगने वाली पेनल्टी पर भी बड़ी छूट मिल रही है. ऐसे में अगर आपके पास भी एलआईसी की पॉलिसी है, जो लैप्स हो चुकी है तो आप एलआईसी के एक विशेष अभियान में इस फिर से चालू करा सकते हैं.

दरअसल भारतीय जीवन बीमा निगम ने लैप्स पॉलिसीज को फिर से चालू करने के लिए ‘एलआईसी स्पेशल रिवाइवल कैंपेन’ शुरू किया है. यह अभियान 24 मार्च 2023 तक चलेगा. इसमें प्रीमियम पर लगने वाली लेट फीस पर बड़ा डिस्काउंट मिल रहा है. आइये जानते हैं आखिर आप कैसे इस स्पेशल कैंपेन के जरिए अपनी पॉलिसी शुरू करा सकते हैं.

खास बात है कि एलआईसी ‘स्पेशल रिवाइवल कैंपेन’ में 5 साल से बंद पड़ी पॉलिसी को फिर से चालू करने का मौका दे रही है. सामान्य तौर पर इतने लंबे अंतराल तक लैप्स पॉलिसीज का रिवाइवल नहीं किया जाता है. हालांकि, एलआईसी पॉलिसी शर्तों के अनुसार ही 5 वर्ष से बंद पड़ी पॉलिसीज को फिर से चालू करने की अनुमति देगी.

वहीं, बंद पड़ी पॉलिसी पर प्रीमियम के साथ लगने वाली लेटफीस पर 30 फीसदी तक की छूट मिलेगी. हालांकि, अधिकतम रियायत 3500 रुपये तक होगी. इस स्पेशल रिवाइवल कैंपेन के बारे में अधिक जानकारी और नियम व शर्तों के लिए आप एलआईसी की इंटरेक्टिव सर्विस की मदद ले सकते हैं. एलआईसी के पॉलिसीधारक अपने मोबाइल से 8976862090 नंबर पर व्हाट्स ऐप पर ‘Hi’ लिखकर भेज सकते हैं. यह अभियान 1 फरवरी से शुरू हो गया है और 24 मार्च तक चलेगा.

जब भी आप बीमा पॉलिसी खरीदते हैं तो उसमें मिलने वाले लाभ उठाने के लिए आपको समय पर प्रीमियम का भुगतान करना होता है. प्रीमियम जमा करने में देरी के कारण कई बार पॉलिसी लैप्स हो जाती है. इसके साथ ही बीमित व्यक्ति की जोखिम सुरक्षा समाप्त हो जाती है. ऐसे में अगर कोई क्लेम आता है तो बीमा कंपनी उसे स्वीकार नहीं करती है इसलिए जरूरी है कि प्रीमियम का भुगतान नियमित तौर पर किया जाए.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
E-Paper