जानिए दालचीनी सिर्फ मसालों में ही नहीं बल्कि इन रोगों का भी करती हैं रामबाण इलाज…

नई दिल्ली: भारतीय खाने में मसलों का अहम महत्व रखा गया हैं। वहीं देखा जाये तो मसलों का उपयोग सिर्फ खाना बनाने में ही नही बल्कि दवाओं में भी इसका इस्तेमाल किया जाता हैं.बतादें कि भारतीय मसालों में बहुत सारे औषधीय गुण होते हैं।

दरअसल इन मसालों का सेवन दवाईयों के तौर पर किया जाए तो ये शरीर की बहुत सारी बीमारियों के इलाज में काम आ सकती हैं। इन्हीं मसालों में से एक मसाला ऐसा है जिसका सेवन करने से सिर के दर्द या फिर माइग्रेन में भी आराम मिलता है। तो आइए जानते हैं वो कौन सा ऐसा मसाला है जिसकी बात हम कर रहें हैं।

दालचीनी का सेवन करने से बहुत सी बीमारियों में आराम मिलता है। डायबिटीज, कोलेस्ट्रॉल, एक्ने, मुंह की दुर्गंध के साथ ही इसका सेवन माइग्रेन के मरीजों के लिए भी रामबाण का काम करता है। अगर किसी को माइग्रेन की समस्या है तो एक बार दालचीनी का प्रयोग जरूर करें।

माइग्रेन की समस्या होने पर सिर के एक तरफ भयानक दर्द होता है। माइग्रेन का दर्द होने पर चक्कर और उल्टी जैसी समस्या हो जाती है। एक बार जब माइग्रेन की वजह से दर्द होना शुरू होता है तो फिर लगातार 72 घंटे तक हो सकता है। इस बीमारी में दवाओं से ज्यादा सही खानपान और दिनचर्या असरकारी होती है।

वहीं माइग्रेन की समस्या होने पर दालचीनी को पीस कर उसका लेप बना कर माथे पर लगा कर आधे घंटे के लिए छोड़ दें। आधे घंटे के बाद हल्के गर्म पानी से इसे धो दें। इस तरह की प्रक्रिया नियमित रूप से करने पर माइग्रेन में राहत मिलती है।इसके साथ ही दालचीनी का पाउडर बना कर उसे तीन से चार बार ठंडे पानी के साथ सेवन करें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper