धनतेरस के दिन घर में लाई गईं ये वस्तुएं बना देती हैं कंगाल, बाहर से ही लौट जाती हैं मां लक्ष्मी

धनतेरस के त्योहार से दिवाली की शुरुआत होती है. कहते हैं कि धनतेरस के दिन कुछ खास चीजों की शॉपिंग मां लक्ष्मी की कृपा प्रदान करती हैं. घर में सोना-चांदी, बर्तन, वाहन, घर आदि खरीदना शुभ माना गया है. माना जाता है कि इस दिन स्थायी चीजों की खरीददारी करने से भगवान धन्वंतीर देव खुश होते हैं और सालभर घर पर धन की वर्षा होने लगती है. लेकिन ज्योतिष शास्त्र में कुछ चीजों की शॉपिंग को अशुभ बताया गया है. अगर आप भूल से भी इन चीजों की शॉपिंग कर लेते हैं, तो पूरे साल रुपयों की तंगी का सामना करना पड़ता है.

धनतेरस के दिन कुछ भी खरीदना शुभ नहीं होता. इस दिन कुछ खास चीजों को खरीदा जाए, तो विशेष लाभ होता है और कुछ चीजें खरीदने से दरिद्रता आ जाती है. धनतेरस के दिन लोहे से बनी चीजें गलती से भी नहीं खरदनी चाहिए. कहते हैं लोहा शनि देव का कारक है. ऐसे में इस दिन लोहा खरीदने से नकारात्मक प्रभाव पड़ता है. धनतेरस के दिन नुकीली और धारदार चीजें खरीदना भी मना है. सुई, कैंची, चाकू, तलवार आदि की खरीदारी इस दिन नहीं करनी चाहिए. मान्यता है कि इन चीजों की खरीदारी से भगवान धन्वंतरी देव नाराज हो जाते हैं. इससे घर में अशांति रहती है और आसपास का माहौल भी खराब होता है.

धनतेरस के दिन कांच के बर्तन खरीदना भी शुभ नहीं होता. कुछ लोग आज के दिन कांच के बर्तन खरीद लेते हैं, जिसे शुभ नहीं माना गया.कहते हैं कांच का संबंध राहु से होता है. ऐसे में धनतेरस के दिन राहु से जुड़ी चीजें खरीदने से नकारात्मक प्रभाव पड़ता है. इससे फिजूलखर्ची बढ़ती है और घर में कलह-कलेश होने लगता है.शुभ कार्यों के दौरान काले रंग का इस्तेमाल करना अशुभ माना जाता है. कहते हैं काला रंग शनि देव और राहु का कारक है. ऐसे में धनतेरस के दिन गलती से भी काले रंग का इस्तेमाल न करें.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper