मंगलवार के दिन भूल से भी ना करें यह काम वरना क्रोधित हो जाएंगे हनुमान जी

नई दिल्ली: मंगलवार का दिन हनुमान जी को अर्पित माना जाता है। कहते हैं हनुमान जी का मंगलवार को पूजन सबसे अच्छा होता है और अगर मंगलवार के दिन कुछ खास उपाय किये जाए तो हनुमान जी प्रसन्न होते हैं। हालाँकि कुछ ऐसे काम हैं जो मंगलवार के दिन भूल से भी नहीं करने चाहिए क्योंकि इन्हे करने से हनुमान जी नाराज हो जाते हैं और वरदान की जगह श्राप दे देते हैं। आज हम आपको उन्ही कामों के बारे में बताने जा रहे हैं। आइए जानते हैं।

चिकन ना खाए- मंगलवार का दिन हनुमान जी का बहुत ही शुभ दिन माना जाता है। ऐसे में इस दिन भूलकर भी शराब और चिकन का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि ऐसा करने से आपके परिवार और सामाजिक जीवन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ने लगता है।

बाल और नाखून काटना- मंगलवार के दिन बाल कटवाना, शेविंग कराना और नाखून काटना बहुत ही अशुभ होता है। यह सब करने से आपके धन और बुद्धि दोनों में कमी हो सकती है। जी दरअसल शास्त्रों के अनुसार मंगलवार के दिन बाल कटाने से उम्र 8 महीने कम हो जाती है।

धारदार चीजें न खरीदें- कहा जाता है मंगलवार के दिन धारदार चीजें खरीदने से परिवार में कलेश बढ़ता है, इस वजह से इस दिन छुरी, कैंची, कांटा आदि बिल्कुल न खरीदें।

काले रंग के वस्त्र न पहनें- मंगलवार के दिन काले रंग के कपड़े पहनने से शनि का प्रभाव पढ़ता है। जी दरअसल यह मान्यता है कि शनि और मंगल का संयोग बेहद कष्टकारी और अशुभ होता है। इस वजह से मंगलवार के दिन लाल रंग के कपड़े पहनने चाहिए और लाल दान करना चाहिए।

न करें निवेश का आरंभ- अगर आपने कुछ नया काम शुरु किया है तो आप उसका निवेश मंगलवार के दिन बिल्कुल न करें। क्योंकि अगर आप ऐसा करते हैं तो आपका कार्य असफल हो सकता है और आपको धन का भी नुकसान हो सकता है।

न करें पैसों का लेन-देन- कहा जाता है मंगलवार के दिन न तो किसी को उधार दें और ना किसी से उधार लें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper