माटी कला के परम्परागत कारीगर एवं शिल्पियों को पुरस्कार हेतु आवेदन जमा करने की अंतिम तिथि 30 नवम्बर

बरेली: जिला ग्रामोद्योग अधिकारी श्री अजय पाल ने जनपद के माटीकला उद्योग से जुड़े कारीगरों एवं शिल्पियों को बताया कि उ0प्र0 सरकार द्वारा गठित उ0प्र0 माटीकला बोर्ड द्वारा विगत वर्षो की भॉति वर्तमान वित्तीय वर्ष 2022-23 के अन्तर्गत भी माटीकला एवं माटी शिल्पकला को बढ़ावा देने हेतु उत्कृष्ट कार्य करने वाले कारीगरों एवं शिल्पियों को पुरस्कृत किया जाना है। उन्होंने कहा कि पुरस्कार योजना के अन्तर्गत मिट्टी के बर्तनों एवं खिलौनों, मूर्तियों आदि का निर्माण कर जीविकोपार्जन करने वाले ऐसे कुम्हारों, माटीकला शिल्पियों एवं परम्परागत कारीगरों को जो उत्कृष्ट कार्य करते हैं उनको मण्डल स्तरीय पुरस्कार प्रदान किया जाता है। कुम्हारी कला के कारीगरों का विभाग में पंजीकरण होना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि उक्त के क्रम में नामांकन फार्म के साथ आधार कार्ड, जाति प्रमाण पत्र, बैंक पासबुक की फोटो कॉपी, एक फोटो संलग्न करना अनिवार्य है। जिस लाभार्थी को पूर्व में माटीकला पुरस्कार मिल चुका है वह लाभार्थी योजना के अन्तर्गत पात्र नहीं होंगे। उन्होंने कहा कि माटीकला से जुड़े कारीगर एवं शिल्पी कार्यालय से नामांकन फार्म प्राप्त कर दिनांक 30 नवम्बर, 2022 तक जिला ग्रामोद्योग कार्यालय, 35यू़/4ए रामपुर बाग, बरेली में जमा कर सकते हैं।
बरेली से सकसेना ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper