रामा और श्यामा इनमें से कौन-सी तुलसी घर के लिए होती है शुभ, जानें इन्हें लगाने के ये खास नियम

नई दिल्ली. हिंदू धर्म में तुलसी को मां लक्ष्मी का रूप माना गया है. वहीं, भगवान विष्णु को भी तुलसी बेहद प्रिय है. वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में तुलसी का पौधा लगाने से सकारात्मक ऊर्जा आती है. साथ ही, घर में सुख-समृद्धि और शांत का वास होता है. वैसे तो तुलसी दो प्रकार की होती है. एक रामा और दूसरी श्यामा. लेकिन दोनों तुलसी को लगाने के अपना अलग महत्व है. आइए जानें वास्तु के अनुसार घर में कौन-सी तुलसी लगाई जाती है.

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में रामा या श्यामा तुलसी को लगाने का अलग-अलग महत्व है. इन दोनों में से किसी एक को ही घर में लगाया जा सकता है. बता दें कि हरी पत्तियों वाली तुलसी को रामा तुलसी के नाम से जाना जाता है. इसे श्री तुलसी, भाग्यशाली तुलसी या फिर उज्जवल तुलसी के नाम से जाना जाता है. वास्तु जानकारों का कहना है कि इस तुलसी का पत्ता खाने में अन्य तुलसी के मुकाबले मीठा होगा. रामा तुलसी का इस्तेमाल पूजा-पाठ में किया जाता है. साथ ही, इसे घर में लगाने से सुख-समृद्धि का वास होता है.

वहीं, श्यामा तुलसी गहरे हरे रंग या बैंगनी रंग की पत्तियों या बैंगनी तने वाली होती है. इसे गहरी तुलसी या फिर कृष्ण तुलसी के नाम से भी जाना जाता है. श्यामा तुलसी भगवान श्री कृष्ण को बेहद प्रिय है.

वास्तु शास्त्र और ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक तुलसी का पौधा लगाने का सबसे उत्तम समय कार्तिक माह का गुरुवार का दिन है. इसलिए अगर आप घर में तुलसी का पौधा लगाने की सोच रहे हैं, तो इस शुभ दिन ही लगाएं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper