घर में भगवान शिव की प्रतिमा लगाने के लिए वास्तुशास्त्र के नियमों का ध्यान रखें

नई दिल्ली : घर में देवी-देवताओं की प्रतिमा या तस्वीर लगाने के बारे में वास्तुशास्त्र में बड़ी ही सावधानी के साथ बताया गया है! इसी के मद्देनजर घर में भगवान शिव की प्रतिमा या तस्वीर लगाते समय भी हमें इन बातों का जरूर ध्यान रखना चाहिए जिससे हमें इनका शुभ फल प्राप्त हो सके!

भगवान शिव की इस दिशा में प्रतिमा या तस्वीर लगाना माना जाता है शुभ: घर में भगवान शिव की प्रतिमा या तस्वीर लगाने की सबसे उत्तम दिशा उत्तर दिशा होती है! ऐसा माना जाता है कि भगवान शिव का निवास स्थान कैलाश पर्वत उत्तर दिशा में है इसीलिए घर में भगवान शिव की प्रतिमा या तस्वीर उत्तर दिशा में लगाने की सलाह दी जाती है! ऐसा करने से घर में एक विशेष तरह की ऊर्जा घर में संचरित होती है!

घर में भगवान शिव की ऐसी तस्वीर लगाना होता है शुभ: घर में भगवान शिव की ऐसी प्रतिमा या तस्वीर लगानी चाहिए जिसमें वह प्रसन्न मुद्रा में बैठे हुए हों या नंदी बैल के साथ ध्यान मुद्रा में बैठे हुए हों! ऐसी तस्वीर लगाने से घर के सदस्यों में आपसी प्रेम बढ़ता है!

बहुत ही शुभ मानी जाती है भगवान शिव की ऐसी प्रतिमा: वास्तुशास्त्र के मुताबिक भगवान शिव की ऐसी प्रतिमा या तस्वीर जिसमें वह अपने पूरे परिवार के साथ यानी कि जिसमें बैठे हुए भगवान के शिव के साथ माता पार्वती, उनके दोनों पुत्र (भगवान कार्तिकेय और भगवान गणेश) हों तो ऐसी प्रतिमा या तस्वीर घर में लगाने से परिवार के सभी कार्य पूरे होते हैं और परिवार में हमेशा खुशियां बनी रहती हैं!

इसका भी रखें खास ध्यान: घर में भगवान शिव की प्रतिमा या तस्वीर लगाते समय इन बातों का जरूर ध्यान रखना चाहिए. जैसे-

भगवान शिव की नटराज वाली मूर्ति या तस्वीर घर या ऑफिस में कदापि नहीं रखनी चाहिए!
भगवान शिव के रौद्र रूप वाली या खड़ी मुद्रा वाली प्रतिमा या तस्वीर को कभी भी घर या ऑफिस में नहीं लगाना चाहिए!
घर में प्रतिमा या तस्वीर वाली जगह साफ-सुथरा होनी चाहिए!

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper