जल्दी रिटायर होकर बिताएं ऐशो-आराम का जीवन, हर महीने खाते में आएंगे 1 लाख रुपये, इतना करना होगा निवेश

नई दिल्ली. जीवन बीमा निगम अपने ग्राहकों के लिए कई तरह की स्कीम पेश करता रहता है. एलआईसी मनी बैक, पेंशन, जीवन बामी आदि श्रेणियों की योजनाएं ऑफर करता है. आज हम आपको एलआईसी की एक स्कीम के बारे में बताएंगे जो आपको 1 लाख रुपये की मासिक पेंशन दिला सकती है. हम बात कर रहे हैं जीवन शांति योजना की. इस एलआईसी ने अधिक एन्युटी रेट के साथ अपडेट किया है. यानी अब खाताधारकों को अधिक पेंशन मिल सकेगी.

ये स्कीम उन लोगों के लिए अच्छी मानी जाती है जो जल्दी रिटायर होना चाहते हैं. साथ ही वह यह चाहते हैं कि उन्हें हर महीने, 3 महीने, 6 महीने या 1 साल के अंतर पर लगातार पैसे मिलते रहें. अगर आप भी अपने लिए ऐसा ही कुछ चाहते हैं तो ये योजना आपके लिए कारगर साबित हो सकती है. इसमें आपको ये प्लान खरीदना होता है और फिर 1-12 साल का इंतजार करना होता है.

परचेस प्राइस की कोई सीमा नहीं है. जितने अधिक पैसे देकर आप प्लान खरीदेंगे आपकी पेंशन उतनी बढ़ जाएगी. एलआईसी की आधिकारिक वेबसाइट पर एक कैलकुलेटर भी दिया गया है जिस पर आप यह देख सकते हैं कि मनचाही पेंशन पाने के लिए आपको कितने रुपये का प्लान खरीदना होगा.

अगर आपको हर महीने 1 लाख रुपये की पेंशन चाहिए तो आपको 1 करोड़ रुपये से इस योजना को खरीदना होगा. 12 साल बाद आपको हर महीने 1.06 लाख रुपये की पेंशन मिलना शुरू हो जाएगी. अगर आप केवल 10 साल तक ही ये पैसा जमा करना चाहते हैं तो आपको मैच्योरिटी पर 94,840 रुपये की मासिक पेंशन मिलेगी.

अगर आपको लगता है कि आपकी जरूरतें 50,000 रुपये की मासिक पेंशन में भी आराम से पूरी हो जाएंगी और आप चैन का जीवन जी सकेंगे तो आपको केवल 50 लाख रुपये देकर ये प्लान खरीदना होगा. इसका मैच्योरिटी पीरियड भी 12 साल का ही होगा और हर महीने आपको 53460 रुपये की पेंशन मिलेगी. अगर आप मैच्योरिटी पीरियड को घटाकर 10 साल कर देते हैं तो मासिक पेंशन भी घटकर इसी तरह आप मनचाही पेंशन रकम के लिए इस कैलकुलेटर के जरिए गणना कर सकते हैं कि आपको कितने रुपये इस स्कीम में लगाने होंगे.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper