ज्योति को गांव में सबसे ज्यादा पढ़े-लिखे होने का मिला इनाम, बिना चुनाव लड़े बनीं ग्राम प्रधान

रामपुर: यूपी के रामपुर (Rampur) जिले में गांव की रहने वाली ज्योति (Jyoti) को उसके पढ़े-लिखे होने का इनाम मिला है। ज्योति गांव में सबसे ज्यादा पढ़ी लिखी हैं। ज्योति ने एमए तक की पढ़ाई की है। रामपुर डीएम (Rampur DM) ने उनको ग्राम प्रधान बना दिया है। दरअसल, गांव के वर्तमान प्रधान को छह माह के लिए जिला बदर घोषित कर दिया गया है। इस पर जिला अधिकारी (Rampur DM) ने गांव के मुखिया होने की कमान ज्योति को सौंप दी है। ज्योति ग्राम पंचायत के वार्ड सदस्यों में सबसे ज्यादा एमए तक पढ़ी लिखी हैं।मामला ग्राम पंचायत मोतीयपुरा का है जो जिले के विकास खंड चमरौवा में आता है।

पिछले वर्ष 2021 में पंचायत चुनाव में इस गांव के प्रधान भूपेंद्र सिंह निर्वाचित हुए थे लेकिन पुलिस ने उनके चाल चलन के आधार पर गुंडा एक्ट की कार्रवाई की संस्तुति कर दी। पुलिस की रिपोर्ट के आधार पर अपर जिला मजिस्ट्रेट की अदालत में मुदकमा चला। आरोपित प्रधान को नोटिस जारी कर उनका पक्ष भी सुना गया लेकिन अपर जिला मजिस्ट्रेट ने पुलिस की मजबूत पैरवी के आधार पर प्रधान को छह माह के लिए जिला बदर घोषित कर दिया। प्रधान को गांव ही नहीं बल्कि जिला छोड़ना पड़ गया। ऐसे में गांव के विकास कार्य प्रभावित होने लगे।

जिला पंचायत राज विभाग ने शासन की योजनाओं के तहत गांव में विकास कार्य सुचारू रूप से जारी रखने के लिए तीन सदस्यों का एक पैनल बनाकर जिला अधिकारी रविन्द्र कुमार मांदड़ के समक्ष भेज दिया। डीएम ने उस पर विचार करते हुए एमए पास के आधार पर ज्योति को अतिरिक्त के तौर प्रधान पद का दायित्व सौंप दिया। जिलाधिकारी के इस आदेश पर 26 जुलाई से ज्योति ही ग्राम की प्रधानी की कमान संभाले हुए हैं। विकास खंड चमरोआ के एडीओ पंचायत वेद प्रकाश शर्मा ने बताया कि मोतीयपुरा ग्राम पंचायत में ग्राम प्रधान के रूप में कार्यवाहक ज्योति ही विकास कार्य देख रहीं हैं। गांव में हर घर तिरंगा समेत अन्य शासन की योजनाओं में उन्हीं का योगदान लिया जा रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper