पहली पत्नी ने वंश की खातिर कराई पति की शादी, दूसरी पत्नी ससुराल पहुंची तो रखी ये शर्मनाक शर्त

नई दिल्ली। आगरा। एक महिला ने संतान न होने पर वंश चलाने के लिए पति की दूसरी शादी करा दी। इस बात की जानकारी दूसरी पत्नी को ससुराल पहुंचने पर हुई। उसने विरोध किया तो पहली पत्नी के घरवालों ने उसे धमकाया। अब संतान पैदा होने पर दस लाख रुपए देकर पति छोड़ने का प्रलोभन दिया है। पीड़िता की शिकायत पर महिला थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई है। इसमें धोखाधड़ी और दूसरी शादी कराने का आरोप है।

हाथरस की रहने वाली युवती की शादी चार जुलाई को ताजगंज क्षेत्र के युवक से हुई थी। युवती का आरोप है कि विदा होकर घर पहुंचने पर उसे पता चला कि पति पहले से शादीशुदा है। पति की पहली पत्नी से कोई संतान नहीं है। वंश चलाने के लिए पति और उसकी पहली पत्नी ने उससे शादी करा दी। इसमें पहली पत्नी के मायके वाले भी शामिल हुए।

पीड़िता का कहना है कि जब उसने इस बात का विरोध किया तो पति की पहली पत्नी ने अपने मायके वालों को बुला लिया। इनमें से उसके दो भाई पुलिस विभाग में हैं, जबकि कुछ सरकारी नौकरी में है। उन्होंने उस पर दबाव बनाना शुरू कर दिया। यह भी कहा कि तुम एक संतान पैदा कर दो, इसके लिए दस लाख रुपए भी देंगे। इसके बाद वह दूसरी शादी कर सकती हैं।

यह सुनकर युवती के पैरों तले जमीन खिसक गई। वह संतान होने के बाद पति से तलाक देने का दबाव बनाने लगे। युवती ने पुलिस से शिकायत की। महिला थाने में पीड़िता ने पति के विरुद्ध प्राथमिकी लिखाई है, जबकि पीड़िता ने अन्य लोगों पर भी षड्यंत्र में शामिल होने के आरोप लगाए हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper