महिला को डायन बताकर कर डाला ऐसा खौफनाक कांड, जानकर कांप उठेंग आप

गढ़वा. झारखंड के गढ़वा जिले में एक शर्मसार कर देने वाली घटना में एक महिला को डायन करार देकर उसे निर्वस्त्र कर दिया गया और लाठियों से दौड़ा-दौड़ाकर पीटा गया. महिला को बचाने की कोशिश करने पर उसके पति और दो बेटियों की भी जमकर पिटाई की गई और उन्हें भी जख्मी कर दिया गया. गांव के दबंगों के खौफ के चलते दो दिनों तक पीड़िता और परिजन अपने घर में चुपचाप कैद रहे. वहीं कुछ लोगों ने हिम्मत बंधाई तो इस मामले की शिकायत पुलिस को की गई. सबसे हैरान करनेवाली बात यह कि महिला पर शर्मनाक अत्याचार करने वालों की अगुवाई गांव का एक निर्वाचित वार्ड सदस्य अमरनाथ उरांव कर रहा था.

मानवता हुई शर्मसार
एफआईआर दर्ज होने के बाद पुलिस ने आरोपी वार्ड सदस्य सहित दो लोगों को गिरफ्तार किया है. मामले में कुल 11 लोग नामजद किये गये हैं. नौ अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापामारी की जा रही है. पीड़िता ने कहा,’पांच सितंबर की रात नौ बजे गांव के ही रहने वाले वार्ड सदस्य अमरनाथ उरांव समेत 11 लोग मेरे घर में घुस आए और मुझे डायन करार देकर लाठी-डंडा से पीटना शुरू कर दिया. मेरे कपड़े फाड़ दिये गये और मैं लगभग निर्वस्त्र हो गई. उनसे बचने के लिए मैं उसी हाल में भागी तो दौड़ा-दौड़ाकर पीटा गया. मैंने किसी तरह भागकर जान बचायी.’

पति को भी नहीं बख्शा
महिला का पति बचाव में आया तो उसे भी बुरी तरह पीटा गया. उसकी हालत गंभीर बनी हुई है. महिला के अनुसार इस मामले को गांव की पंचायत में दबाने की कोशिश हुई. पंचायत में कहा गया कि वह पुलिस में शिकायत नहीं करेगी. इसे सामाजिक तौर पर सुलझा लिया जायेगा. दो दिन बाद महिला ने कुछ लोगों द्वारा हिम्मत बंधाये जाने पर शिकायत दर्ज कराई तो उस पर केस वापस लेने का दबाव डाला जा रहा है. ऐसा न करने पर खतरनाक अंजाम भुगतने की धमकी दी जा रही है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper