Agneepath :हरियाणा सरकार देगी अग्निपथ भर्ती के लिए बच्‍चों को कोचिंग, प्रदेश के 200 स्कूलों को किया गया चयन

चंडीगढ़ । हरियाणा (Haryana) की मुख्यमंत्री मनोहर लाल की सरकार (Manohar Lal Government) राज्‍य में सेना में जाने वाले इच्छुक युवाओं के लिए ”अग्निपथ योजना” (Agneepath Recruitment) की शुरुआत करने जा रही है। जिसमें अब सरकार थल सेना, नौसेना और वायुसेना में अग्निवीर के रूप में सेवाएं देने के लिए अपने राज्‍य के बच्‍चों को कोचिंग दिलाएगी। इसके लिए सरकार ने राज्य के 200 स्कूलों का चयन किया है और वह 50-50 के बैच से इस कार्य की शुरुआत करेगी। सरकार इसके लिए सबसे पहले 11वीं कक्षा में भर्ती के लिए विकल्प दिया जाएगा।

इस संबंध में प्राप्‍त जानकारी के अनुसार मुख्यमंत्री मनोहर लाल की सरकार (Manohar Lal Government) ने निर्णय लिया है कि शारीरिक व शैक्षणिक अलग-अलग स्तर पर प्रशिक्षण पाठ्यक्रम होंगे। सीएम खट्टर ने कहा है कि केंद्र सरकार ने पूरे देश में 10 नए सैनिक स्कूल खोलने की घोषणा की है। हरियाणा में कुंजपुरा व रेवाड़ी में 2 सैनिक स्कूल पहले से ही संचालित हैं। हमारा प्रयास है कि 10 नए सैनिक स्कूलों में से एक सैनिक स्कूल हरियाणा को मिले। हमारे पास इस स्कूल के लिए झज्जर जिले के मातनहेल में पहले से ही जमीन उपलब्ध है।

अग्निपथ’ योजना (Agnipath Scheme) को लेकर मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal) ने कहा है कि इस योजना से युवाओं को न केवल देश सेवा करने का मौका मिलेगा, बल्कि अग्निवीरों को देश की आर्मी के अलावा हरियाणा पुलिस की भर्ती में भी प्राथमिकता मिलेगी. उन्होंने कहा कि युवाओं को रोजगार उपलब्ध करवाने के लिए हरियाणा सरकार दृढ़संकल्पित है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper