PM ने चीन को बिना लड़ाई के 1000 वर्ग किमी जमीन दी है : राहुल गांधी

नई दिल्ली । लद्दाख में भारत और चीन की सेनाओं के पीछे हटने की खबरों के बाद, कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बुधवार को चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर अप्रैल 2020 की यथास्थिति बहाल नहीं करने के लिए केंद्र सरकार पर हमला बोला। राहुल ने कहा, “चीन ने अप्रैल 2020 की यथास्थिति बहाल करने की भारत की मांग को स्वीकार करने से इनकार कर दिया है। पीएम ने बिना लड़ाई के चीन को 1000 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र दे दिया है। क्या भारत सरकार बता सकती है कि इस क्षेत्र को कैसे फिर से प्राप्त किया जाएगा?”

सरकारी सूत्रों ने मंगलवार को कहा कि, भारत और चीन के बीच लद्दाख सेक्टर में प्रमुख फ्लैशप्वाइंट पर दोनों सेनाएं पूरी तरह से पीछे हट गई है। महीनों की बातचीत और 16 राउंड की कोर कमांडर मीटिंग के बाद यह प्रक्रिया 8 सितंबर को शुरू हुई थी। सूत्रों के अनुसार मई 2020 के घर्षण के बाद दोनों पक्ष पीछे हट गए हैं।

सूत्रों ने बताया कि, दोनों पक्षों ने जमीनी कमांडरों द्वारा एलएसी पर अपनी पोस्ट का सत्यापन कर लिया है। सूत्रों के अनुसार भारत और चीन दोनों ने पूर्वी लद्दाख में गोगरा-हॉटस्प्रिंग्स क्षेत्र में पीपी-15 के आमने-सामने के स्थान से अपने अग्रिम पंक्ति के सैनिकों को पीछे की ओर ले गई और पांच दिवसीय विघटन प्रक्रिया के हिस्से के रूप में वहां अस्थायी बुनियादी ढांचे को नष्ट कर दिया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper