जब पिता ने किया था शोषण तो उर्फी जावेद ने ऐसे काम करके किया गुजारा, छलका एक्ट्रेस का दर्द

मुंबई: दरअसल, हाल ही में उर्फी सिद्धार्थ कानन के शो में शामिल हुई थीं, इस दौरान उन्होंने अपनी लाइफ और बिग बग में आने की वजह भी बताई। उर्फी ने इंटरव्यू के दौरान जावेद से पूछा कि ‘उन पर पैसे देकर मीडिया को कॉल करने का आरोप है? इस सवाल का जवाब देते हुए उर्फी ने कहा, ‘क्या मैं काइली जेनर हूं? पैसा कहां से आया? क्या मैं अंबानी की बेटी हूं?’ उर्फी ने आगे जवाब दिया कि ‘कभी-कभी लोग कहते हैं कि मेरे पास कपड़े पहनने के लिए पैसे नहीं हैं। दूसरी तरफ लोग कह रहे हैं कि मैं पैसे देता हूं? आपको क्या लगता है कि मेरा पैसा कहां से आ रहा है? मेरी तरफ देखो’।

बात करते हुए उर्फी ने आगे कहा कि ‘क्या तुम लोग सच में सोचते हो कि मैं किसी को पैसे देकर मुझे कवर करने के लिए कहूंगी?’ इंटरव्यू में बात करते हुए उर्फी ने आगे कहा कि ‘मैं पिछले 8 साल से आर्थिक तंगी से जूझ रही थी. जब मैं बिग बॉस में आया था तो मैंने कर्ज के पैसे लिए थे। मैंने वहां जितने भी कपड़े पहने थे सब उधार के थे। जब मैं बिग बॉस से बाहर आया तो मुझ पर काफी कर्ज था। मैं शो में केवल एक सप्ताह था। उसमें भी मैंने ज्यादा पैसा नहीं कमाया। तो अब जब मैं कुछ करके पैसा कमा रहा हूं, तो मुझे लगता है कि क्यों न उसमें खुद को स्पेशलाइज किया जाए और उससे ज्यादा पैसा कमाया जाए।

उर्फी जावेद ने आगे बताया कि ‘जब मैं मुंबई में आठ साल तक छोटी-छोटी चीजें करता रहा, तो जो भी काम मिलता था, कर लेता था। मैंने बिना दिमाग के काम किया है। 15 सीरियल में काम किया लेकिन मुझे किसी से सफलता नहीं मिली। मैंने 2500 रुपये से शुरुआत की, और आखिरी बार एक वेब सीरीज में काम किया, जिसके लिए मुझे सिर्फ 18 हजार रुपये मिले। बता दें कि उर्फी सोशल मीडिया पर खूब वायरल होती हैं। बीते दिनों उन्हें किसी ने जान से मारने की धमकी दी थी, जिसकी वजह से वह काफी सुर्खियों में रहीं थीं। इसके अलावा उर्फी जावेद ने कई टीवी शोज में भी काम किया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper