घर में सुख-समृद्धि को आमंत्रित करने के लिए करें ये काम

आमतौर पर गृहणियां अपने आशियाने को सुंदर बनाने के लिए बहुत सारी तस्वीरों और पेंटिंग का सहारा लेती हैं। शायद आपको मालुम न हो इनसे घर की नेगेटिव एनर्जी को दूर कर पॉजिटिव एनर्जी का

आमतौर पर गृहणियां अपने आशियाने को सुंदर बनाने के लिए बहुत सारी तस्वीरों और पेंटिंग का सहारा लेती हैं। शायद आपको मालुम न हो इनसे घर की नेगेटिव एनर्जी को दूर कर पॉजिटिव एनर्जी का समावेश करवाया जा सकता है। किसी भी चीज का लाभ तभी प्राप्त होता है, जब उसे सही स्थान पर रखा जाए। आपको अपने घर में सुख-समृद्धि को आमंत्रित करना है तो करें ये काम-PunjabKesari Vastu tips

लाइफ में सक्सेस चाहते हैं या सकारात्मकता से भरा जीवन तो वास्तुशास्त्र के अनुसार घर या वर्क प्लेस पर 7 घोड़ों वाली तस्वीर लगाएं। ध्यान रखें, घोड़ों का मुंह अंदर की ओर होना चाहिए। जिस घर में छोटी-छोटी बात पर कहासुनी होती है या धन तो आता है लेकिन बरकत नहीं हो पाती उन्हें भी अपने घर में ये चित्र जरुर लगाना चाहिए।

वास्तु शास्त्र और फेंगशुई के अनुसार घर और ऑफिस में कुछ जानवरों की मूर्तियां रखने से शुभ-लाभ प्राप्त होता है। घोड़े की मूर्ति घर में रखने से समाज में मान और यश की प्राप्ति होती है। घोड़ा उर्जा से भरा जीव है, ये घर में आगे बढ़ने की प्रेरणा देता है।

दक्षिण दिशा में दौड़ते हुए घोड़े की प्रतिमा रखने से जीवन में धन, समृद्धि और खुशहाली आती है। वास्तुदोष भी समाप्त होता है। इसे घर में रखने से पहले ध्यान रखें की घोड़ों का सिर किसी खिड़की या दरवाजे की तरफ हो। इस तरीके से उन्हें सजाने से सकारात्मक ऊर्जा घर में ही रहती है और नकारात्मकता घर के अंदर नहीं आ पाती।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper